September 22, 2020

माल लदान में एनडब्ल्यूआर ने अर्जित की 20.6 फीसदी अधिक आय

जयपुर, 11 सितंबर। देश के प्रत्येक भाग में आवश्यक सामग्री की निर्बाध आपूर्ति करने के लिए रेलवे की ओर से विशेष प्रयास किए जा रहे है। इस वर्ष अगस्त में उत्तर पश्चिम रेलवे (एनडब्ल्यूआर) ने 1.543 मिलियन टन माल लदान किया, जो कि अगस्त 2019 के 1.420 मिलियन टन से 8.66 फीसदी अधिक है। वर्तमान में जब रेलवे की ओर से यात्री गाडिय़ों का संचालन सीमित संख्या में किया जा रहा है, तो इसे देखते हुए मालगाडिय़ों के संचालन पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। एनडब्ल्यूआर से मिली जानकारी के मुताबिक माल लदान से अगस्त में जोन को 178.70 करोड़ रुपए का राजस्व मिला। यह मालभाड़ा आय अगस्त 2019 के 148.20 करोड़ रुपए के मुकाबले 20.6 फीसदी अधिक है। वित्त वर्ष 2020-21 में अगस्त तक एनडब्ल्यूआर ने कुल 6.55 मिलियन टन का लदान किया है।

ग्राहकों को होने वाली समस्या का निराकरण
मालगाडिय़ों पर माल लदान तथा ढुलाई को अधिक से अधिक प्रोत्साहित करने के लिए भी एनडब्ल्यूआर की ओर से कई अहम प्रयास किए जा रहे है। इस कड़ी में ग्राहकों को होने वाली समस्या का निराकरण प्रमुखता से किया जा रहा है, ताकि उन्हे किसी तरह की कोई समस्या न हो। इसके लिए जोनल एवं मंडल स्तर पर बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट की स्थापना भी की है। यह यूनिटी ही व्यवसायियों और उद्योगपतियों से संपर्क कर उन्हे रेलवे के आकर्षक योजनाओं से अवगत करवा रही है। इस यूनिट के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया जा रहा कि रेलवे से माल ढुलाई अन्य परिवहन साधनों से बेहतर और विश्वसनीय होने के साथ ही मितव्ययी भी है। यूनिट रेलवे पर माल ढुलाई को सरल और सुलभ बनाने के लिए व्यवसायिकों के साथ निरन्तर विचार-विमर्श कर लदान बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्राप्त करती है।