October 20, 2020

मास्क लगाएं और सामाजिक दूरी बनाए रखें: कलराज मिश्र

राज्यपाल की प्रदेशवासियों से अपील

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 1 अक्टूबर। राज्यपाल कलराज मिश्र ने प्रदेश में कोरोना के लगातार होते विस्तार और प्रतिदिन मरीजों की बढ़ती संख्या के प्रति गहरी चिंता जताई है। उन्होंने प्रदेशवासियों से मास्क लगाने और सामाजिक दूरी बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि मास्क और दो गज दूरी रखने के लिए जन आन्दोलन की शुरूआत राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस 2 अक्टूबर से होगी। इस आन्दोलन के दौरान आम लोगों को मास्क पहनने, उचित दूरी रखने और भीड़-भाड़ से दूर रहने के नियम की अनिवार्य रूप से पालना करने का संदेश दिया जाएगा।
कोरोना वैश्विक महामारी का यह विषय अत्यंत चिन्तनीय है। कोरोना के बारे में वे राज्य पर नजर रखे हुए हैं और लगातार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से इस बारे में चर्चा कर रहे हैं। उन्होंने कहा है कि कोरोना से बचाव ही इसका इलाज है। लोगों को इस बीमारी से बचने के लिए सावधानियां बरतनी होगी। आवश्यक एहतिहात का पालन करना होगा। कोरोना से बचने के लिए आवश्यक सावधानियों का ध्यान रखना होगा। यह प्रत्येक व्यक्ति के लिए तो जरूरी है ही साथ ही घर, परिवार, समाज, प्रदेश और देश भी बचाव के इन्हीं तरीकों से सुरक्षित रह सकेगा। मिश्र ने कहा कि हमारी अपनी सुरक्षा अपने हाथों में है। सभी को मास्क पहनना अनिवार्य है।
यदि मास्क नही हो तो गमछा, दुप्पटा या रूमाल से अपने नाक और मुंह को ढक कर रखें। सामाजिक दूरी बनाये रखना आवश्यक है। सेनेटाइजर का उपयोग करें। साफ-सफाई का पूरा ध्यान रखें। राज्यपाल ने कहा कि अभियान की सफलता तभी सुनिश्चित हो सकेगी, जब सभी लोग मास्क पहनने केे जन आन्दोलन को सफल बनाएं और संक्रमण से खुद अपना तथा दूसरों का बचाव करें। वार्ड और मौहल्ला स्तर तक समितियों के माध्यम से स्थानीय जनप्रतिनिधियों और आम लोगों को जोड़कर अभियान को व्यापक रूप दिया जाएगा। राज्यपाल ने कहा कि मास्क पहनने और उचित दूरी बनाने के संकल्प के साथ यह अभियान वास्तव में जनता का आंदोलन होना चाहिए। जनता ही इसे आगेे बढ़ाए। जनप्रतिनिधि लोगों को प्रोत्साहित करने का काम करें। मानव स्वास्थ्य पर कोरोना पॉजिटिव के ठीक होने के बाद भी इसके लंबे समय तक पडऩे वाले दुष्प्रभावों की स्थिति में यह आंदोलन ही एक विकल्प है, जो जीवन को बचाने में मददगार हो सकता है। इस अभियान का व्यवस्थित ढंग से संचालन किया जाए, जिसमें सोशल मीडिया सहित विभिन्न प्रचार माध्यमों की सकारात्मक भूमिका सुनिश्चित करनी होगी।