October 25, 2020

रसेल पसंदीदा ऑलराउंडर, उन्हीं से सीखी हार्ड हिटिंग: मावी

नई दिल्ली, (एजेंसी)। शिवम मावी को जब जूनियर क्रिकेट में दिल्ली से मौका नहीं मिला तो उन्होंने उप्र का रुख किया। इसके बाद वे 2018 में अंडर-19 वल्र्ड कप के हीरो बन गए। उन्होंने लगातार तीन मैच में विकेट लिए। 21 साल के इस युवा तेज गेंदबाज के प्रदर्शन से प्रभावित होकर कोलकाता नाइटराइडर्स ने 2018 में उन्हें 3 करोड़ रुपए में खरीदा। मावी ने 2018 में 8 मैच खेले, लेकिन चोट के कारण 2019 में कोई मैच नहीं खेल सके। इस बार केकेआर को युवा गेंदबाज से बड़ी उम्मीदें हैं। जब मैं गेंदबाजी करता हूं तो सोच बिलकुल साफ रहती है कि स्विंग गेंदबाज होने के नाते मैं नई गेंद से अपनी टीम को शुरुआती विकेट दिला सकूं। बल्लेबाजी करने के दौरान मेरा नजरिया थोड़ा अलग हो जाता है। मुझे अमूमन 6 या 7 नंबर पर बैटिंग का मौका मिलता है। इस दौरान मेरे पास 6-7 गेंदें ही होती हैं खेलने के लिए। टीम को इतने छोटे से समय में 1 चौके और 1 छक्के की उम्मीद तो रहती है। मैं इसी को ध्यान में रखते हुए बल्लेबाजी का अभ्यास करता हूं। मैं ये भी सोचता हूं कि कैसे मुश्किल हालात और मौके की नजाकत को देखते हुए बल्लेबाजी कर टीम को जीत दिला सकूं। भुवी भइया से मुझे ही नहीं हर युवा गेंदबाज को सीखने को मिलता है। उन्होंने मुझे ये बताया है कि टी-20 फॉर्मेंट में हर मौके पर अलग-अलग किस्म की चुनौतियां होती है और खुद को उसमें ढालना पड़ता है। मेरा मानना है कि जैसे-जैसे आप क्रिकेट के बेहतर स्तर पर खेलते हैं, वैसे-वैसे आपके कौशल और कला से ज्यादा ये बात मायने रखने लगती है कि आपकी सोच कैसी है।