September 25, 2020

रहस्यमयी भोलेनाथ का जंबुकेश्वर मंदिर

भोलेनाथ का व्यवहार जितना सादा है उतना ही मुश्किल है उनके रहस्यों को समझ पाना। शिवजी के रहस्यमयी मंदिरों की भी लंबी फेहरिस्त है। ऐसा ही एक मंदिर है जो कि दक्षिण भारत में ‘जंबुकेश्वर मंदिर’ के नाम से जाना जाता है। इस मंदिर में शादी-ब्याह का आयोजन नहीं किया जाता है। मंदिर को लेकर यह भी कथा मिलती है कि एक बार माता पार्वती ने शिव ज्ञान की प्राप्ति के लिए पृथ्वी पर आकर इसी स्थान पर अपने हाथ से शिवलिंग बनाकर तपस्या की थी। जंबुकेश्वर मंदिर में मूर्तियों को एक-दूसरे के विपरीत स्थापित किया है। जिन मंदिरों में ऐसी व्यवस्था होती है उन्हें उपदेशा स्थालम कहा जाता है। क्योंकि इस मंदिर में देवी पार्वती एक शिष्य और जंबुकेश्वर एक गुरु के रूप में मौजूद हैं। इसलिए इस मंदिर में थिरु कल्याणम यानी कि शादी-ब्याह नहीं कराया जाता है।