Sat. May 25th, 2019

राजकीय अस्पतालों में गुणवत्तापूर्ण सेवाएं सुनिश्चित करने वाला रिपोर्ट कार्ड जारी

मिशन निदेशक ने वित्तीय वर्ष 2018-19 के चिकित्सा केन्द्रों में अपनाएं 18 मापदण्डों पर आधारित जारी की रैकिंग

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 17 मई। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विशिष्ट शासन सचिव एवं मिशन निदेशक एनएचएम डॉ. समित शर्मा ने वित्तीय वर्ष 2018-19 में क्लीनिकल केयर, मातृ स्वास्थ्य, टीकाकरण, परिवार नियोजन एवं गैर संचारी रोग कार्यक्रमों संबंधी कुल 18 मापदण्डों पर तैयार प्रदेश के चिकित्सा संस्थानों का रिपोर्टकार्ड जारी किया है। उन्होंने प्रदेश के 27 जिला अस्पतालों, सर्वश्रेष्ठ तथा कम प्रगति वाले 20-20 सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की रिपोर्ट की विस्तार से समीक्षा कर बेहतर प्रदर्शन करने वाले चिकित्सा संस्थानों से प्रेरणा लेकर कार्य करने के लिये प्रोत्साहित किया है। अतिरिक्त मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य रोहित कुमार सिंह के निर्देश पर यह रिपोर्ट कार्ड तैयार कर जारी किए गए हैं। उन्होंने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधी 40 प्रकार के स्वास्थ्य सूचकांकों के आधार पर जिलों की मिसाल रैंकिंग तैयार की जाती रही है। इसी प्रकार जिलों में संचालित अन्य यूनिट्स जैसे जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, जिला वर्टिकल प्रोग्राम, जिला टीबी एवं खण्ड मुख्य चिकित्सा यूनिट की रैंकिंग प्रतिमाह तैयार की जायेगी। इसी प्रकार चिकित्सा संस्थानों के लिए प्रतिमाह पीसीटीएस, ई-औषधि आदि सॉफ्टवेयर्स पर जो स्वास्थ्य कार्यक्रमों की सूचना प्राप्त होती है उसके आधार पर आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के मूल्यांकन की तर्ज पर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला तथा उप जिला अस्पताल, सैटेलाईट अस्पताल की भी रैंकिंग तैयार की जाएगी।

5 मुख्य स्वास्थ्य सेवाओं के 18 मापदण्डों पर रैंकिंग: मिशन निदेशक ने बताया कि क्लीकल केयर में प्रतिदिन ओपीडी में आने वाले मरीजों की संख्या, मुख्यमंत्री नि:शुल्क दवा योजना में जिला औषधि भंडार की तुलना में दवा वितरण केन्द्र पर उपलब्ध दवाओं की संख्या, नि:शुल्क जांच योजना के तहत उपलब्ध जांचों संख्या व रोगियों को प्रदत्त जांच सेवाओं की संख्या के आधार पर रिपोर्टिंग तैयार होगी। इसी प्रकार मातृ स्वास्थ्य में सेक्टर स्तर पर प्रसव पूर्व 4 जांच सेवा, पीएचसी पर किये जा रहे प्रसवों की संख्या, जननी सुरक्षा योजना के तहत उपलब्ध कराये जा रहे लाभ, टीकाकरण में शत्-प्रतिशत टीकाकृत बच्चों की संख्या, परिवार नियोजन में पीएचसी स्तर पर आईयूडी निवेशन एवं गैर संचारी रोग कार्यक्रम के तहत हायपरटेंशन व डायबिटीज रोगियों की स्क्रीनिंग की संख्या के आधार पर रिपोर्ट कार्ड तैयार किया जाएगा।

रिपोर्ट कार्ड संबंधित प्रभारी अधिकारी को भेजा जाएगा: डॉ. शर्मा ने बताया कि निदेशालय स्तर पर उपरोक्त बिन्दुओं को ध्यान में रखते हुए प्रतिमाह तैयार होने वाले रिपोर्ट कार्ड को संबंधित प्रभारी अधिकारी को भेजा जाएगा। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि कार्य निष्पादन की अंक आधारित समीक्षा प्रणाली से जिले, खण्ड व चिकित्सा संस्थानों के द्वारा उपलब्ध करायी जा रही सेवाओं के प्रगति विश्लेषण व बेहतर क्रियान्वयन में सहायता मिलेगी।

उत्कृष्ट कार्य करने वाले होंगे सम्मानित: मिशन निदेशक ने बताया कि रिपोर्ट कार्ड के आधार पर उत्कृष्ट कार्य करने वाले संस्थानों व यूनिट्स को विश्व स्वास्थ्य दिवस, चिकित्सक दिवस, विश्व जनसंख्या दिवस, स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस पर सम्मानित किया जाएगा। साथ ही उनके नाम राज्य व जिला स्तर पर आयोजित होने वाले राजकीय कार्यक्रमों में पुरस्कृत करने के लिए भेजे जाएंगे।