December 3, 2020

रेलवे ने माल ढुलाई से बढ़ाई कमाई

9 से 10 फीसदी की बढ़ोतरी

नई दिल्ली, एजेंसी। कोरोना काल में भारतीय रेलवे ने सराहनीय काम किया है। जिसका फल भी उसे मिल रहा है। कोरोना काल के बावजूद रेलवे की कमाई सभी रिकॉर्ड तोड़ रही है। खासकर माल ढुलाई से होने वाली कमाई में। पैसेंजर टिकट में अभी कोई खास फर्क देखने को नहीं मिला है। ऐसे में कंपनी को कमाई का सहारा माल ढुलाई ही है। अगर तुलना पिछले साल से करें तो इस साल अक्टूबर में माल ढुलाई में 15 फीसदी की तेजी और उससे होने वाली कमाई में 10 फीसदी तक का इजाफा देखने को मिला है।

माल ढुलाई 15 फीसदी ज्यादा: कोरोना महामारी के बावजूद अक्टूबर 2020 में भारतीय रेल ने माल ढुलाई और कमाई की रफ्तार बनाए रखते हुए, पिछले साल की इसी अवधि की ढुलाई और कमाई के आंकड़े को पार कर लिया। रेलवे मंत्रालय ने रविवार को एक बयान में कहा कि अक्टूबर में रेलवे ने कुल 10.816 करोड़ टन लोड दर्ज किया, जो पिछले साल के 9.375 करोड़ टन के मुकाबले 15 फीसदी अधिक है। बयान में कहा गया कि इस अवधि के दौरान रेलवे ने माल ढुलाई से 10,405.12 करोड़ रुपये कमाए, जो पिछले साल की 9,536.22 करोड़ रुपए की आय की तुलना में 868.90 करोड़ रुपए करीब 10 फीसदी अधिक है। 10.816 करोड़ टन लोड में 4.697 करोड़ टन कोयला, 1.468 करोड़ टन लौह अयस्क, 50.3 लाख टन खाद्यान्न, 59.3 लाख टन उर्वरक और 66.2 लाख टन सीमेंट क्लिंकर को छोड़कर शामिल है।

रेलवे दे रहा है छूट: रेल द्वारा माल ढुलाई को बहुत ही आकर्षक बनाने के लिए कई रियायतें और छूट प्रदान की जाती हैं। मंत्रालय ने कहा कि माल ढुलाई में सुधार को संस्थागत रूप दिया जाएगा। नए व्यवसाय को आकर्षित करने और मौजूदा ग्राहकों को प्रोत्साहित करने के लिए, रेल मंत्रालय ने लोहा और इस्पात, सीमेंट, बिजली, कोयला, ऑटोमोबाइल क्षेत्रों और रसद सेवा प्रदाताओं के शीर्ष नेताओं के साथ बैठकें की हैं।