October 28, 2020

लैपटॉप के मुकाबले मोबाइल से आंखों पर बुरा असर

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच फिलहाल घर से ही पढ़ाई हो रही है। कई घंटों तक चलने वाली ऑनलाइन क्लासेस के दौरान बरती गईं छोटी-छोटी लापरवाही आंखों में खुजली, लालिमा, रुखापन और सिरदर्द को बढ़ा रही हैं। वैज्ञानिकों का कहना है, लम्बे समय तक ऐसी स्थिति रही तो मायोपिया हो सकता है। अगर आप भी ऑनलाइन स्टडी कर रहे हैं तो कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है ताकि आंखों की रोशनी पर असर न पड़े और सिरदर्द के कारण होने वाले चिड़चिड़ेपन को रोका जा सके। बच्चे छोटे हैं तो यह जरूरी है कि पेेरेंट्स उन पर नजर रखें ऐसे लक्षण दिखने पर डॉक्टर से सम्पर्क करें। लगातार गैजेट को इस्तेमाल के दौरान इंसान पलकें झपकाना भूल जाता है, यह आदत इसके बुरे असर को और बढ़ाने में मदद करती है। यही से आंखों में सूखेपन की शुरुआत होती है। ध्यान न देने पर धीरे-धीरे दूसरे लक्षण भी दिखने शुरू होते हैं। जितने ज्यादा घंटे इन्हें इस्तेमाल करेंगे आंखों पर उतना ही बुरा असर पड़ेगा। चिकित्सकों के मुताबिक आंखों की इन समस्या का समय रहते समाधान किया जा सकता है।

आखिर क्यों खतरनाक है मोबाइल

  • पहली वजह: हमेशा लैपटॉप के मुकाबले मोबाइल ज्यादा आंखों के करीब होता है, इसलिए असर भी ज्यादा होता है।
  • दूसरी वजह: मोबाइल की स्क्रीन छोटी होने के कारण आंखों पर जोर अधिक पड़ता है। इससे निकलने वाली नीली रोशनी आंखों के सबसे करीब होने के कारण ज्यादा बुरा असर छोड़ती है।
  • तीसरी वजह: ज्यादातर घरों में लैपटॉप एक या दो ही होते हैं वो ज्यादातर लोगों में बंट जाता है लेकिन मोबाइल हर इंसान के पास होता है। इसलिए इसका इस्तेमाल भी ज्यादा होता है।

लक्षण दिखने पर हो जाएं अलर्ट
अगर आंखों में खिंचाव, खुजली, थकावट, लालिमा, पानी आना, धुंधला दिखने जैसी समस्या हो रही है तो अलर्ट हो जाएं। ये डिजिटल आई स्ट्रेन के लक्षण हैं। लम्बे समय तक ऐसी स्थिति रहती है तो सिरदर्द, उल्टी और चिड़चिड़ेपन की शिकायत होने लगती है। कुछ लोगों में चक्कर आने के साथ, आंखों से फोकस करने में कठिनाई, एक ही चीज के दो प्रतिबिम्ब दिखना जैसे लक्षण भी दिख सकते हैं। कई बार यह समझ नहीं आता है क्योंकि जब दिन की शुरुआत होती है तो सब कुछ नॉर्मल लगता है, दिन में ऑनलाइन क्लासेज लेते हैं, दिमाग डायवर्ट रहता है। लेकिन शाम होते-होते इसका असर दिखने लगता है।

ऑनलाइन क्लासेस नहीं, तो भी रखें ध्यान
अगर ऑनलाइन क्लासेस नहीं हैं और मोबाइल से स्टडी से कर रहे हैं तो आंखों को हर 20 मिनट पर 20 सेकंड के लिए तक 20 फीट तक देखें। इसके बाद वापस पढ़ाई शुरू कर सकते हैं। आंखों को दिन में 4-5 बार पानी से धोएं।