September 21, 2020

विश्वेंद्र, रमेश मीणा प्रतिदिन देंगे दस हजार जुर्माना!

JAIPUR, INDIA - AUGUST 13: Former Tourism minister for Rajasthan Vishvendra Singh during an interview at his official residence at Civil Lines on August 13, 2020 in Jaipur, India. (Photo by Himanshu Vyas/Hindustan Times via Getty Images)

अब तक खाली नहीं किया सरकारी बंगला

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 14 सितम्बर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पायलट खेमे के साथ रहे पूर्व मंत्रियों विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा के प्रति मेहरबानी दिखाना नियम-कायदों पर भारी पड़ रहा है। जुलाई में मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने के बाद भी विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा ने मंत्री की हैसियत से आवंटित टाइप वन श्रेणी का सरकारी बंगला खाली नहीं किया है। साथ ही राज्य सरकार द्वारा इनकी सुरक्षा में भी अब तक किसी प्रकार की कटौती नहीं की गई है। हालांकि सचिन पायलट को इस नियम से छूट है। पूर्व केंद्रीय मंत्री होने के नाते वो आवंटित अपने आवास पर रह सकते हैं। प्रदेश में मंत्रियों को टाइप वन श्रेणी के सरकारी बंगले आवंटित किए जाते हैं लेकिन विधायक टाइप वन श्रेणी के बंगले की सीमा नहीं आते हैं। सामान्य प्रशासन विभाग के नियमों के अनुसार यदि विधायक टाइप वन श्रेणी का बंगला खाली नहीं करते हैं तो उन्हें प्रतिदिन 10 हजार रुपए की पेनल्टी देनी होगी। सीएम गहलोत ने 14 जुलाई को सचिन समेत विश्वेंद्र और रमेश मीणा को बर्खास्त कर दिया था। सामान्य प्रशासन विभाग ने मंत्री की हैसियत से आवंटित बंगले को खाली करने के लिए दोनों पूर्व मंत्रियों को अभी नोटिस भी नहीं थमाया है जबकि इन दोनों को पद से हटा दो महीने पूरे होने वाले हैं। नियमों के अनुसार मंत्री पद जाने के दो महीने के भीतर सरकारी आवास खाली करना होता है।