October 23, 2020

वैश्विक तापमान और ओजोन स्तर में बदलाव से फूलों के रंग भी बदल रहे

नई दिल्ली, 6 अक्टूबर (एजेंसी)। प्रकृति ने सभी जीवों को अपने वातावरण के अनकूल ढलने की क्षमता दी है। इतना ही नहीं पौधे और जानवर स्थाई बदलावों के मुताबिक भी खुद में स्थाई बदलाव तक कर लेते हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने पाया है कि कुछ फूलों के रंगों में सूक्ष्म रूप से इतने बदलाव हुए हैं कि अब उनका पूरा का पूरा रंग ही बदल गया है। इस तरह के बदलाव पहले नहीं देखे गए थे लेकिन अब ये हो रहे हैं। हाल ही में करंट बायोलॉजी में प्रकाशित शोध से पता चला है कि पिछले 75 सालों में फूलों ने अपनी पंखुडिय़ों में पराबैंगनी किरणों को अवशोषित करने वाले पदार्थ में बदलाव किए हैं और इसकी वजह बदलते वैश्विक तापमान और ओजोन स्तर हैं। फूलों में परा बैंगनी किरणों को अवशोषित करने वाले पदार्थ इंसानी आंख को दिखाई नहीं देते लेकिन वे पराग ले जाने वाले कीटों को आकर्षित करते हैं। ये पौधों के फूलों की संवेदनशील कोशिकाएं के लिए सनस्क्रीन का काम करते हैं क्योंकि पराबैंगनी किरणें पराग के लिए नुकसानदायक होती हैं।