October 25, 2020

शैक्षाणिक व शोध गातिविधियों से प्रबंधन क्षमता में करें विकास-मलिक

कूकस के शंकरा इंस्टीट्यूट में बतौर अतिथि मेघालय के राज्यपाल ने किया संबोधित

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 15 अक्टूबर। मेघालय के राज्यपाल सतपाल मलिक के कहा है कि छात्रों तथा प्रबंधन कार्य में लगे प्रोफेशनल्स के शैक्षणिक स्तर में गुणवता तथा नित्य नवीनतम शोध के जरिये मैनेजमेंट कैपेसिटी ना केवल विकसित होती है बल्कि उनकी प्रबंधकीय क्षमताओं में अधिक निखार भी आता है। मलिक कूकस स्थित शंकरा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स में आर.टी.यू के समन्वय से आयोजित वर्कशॉप में संबोधित कर रहे थे। मैंनेजमैट कैपसिटी डेबलेपमेंट विषयक दो दिवसीय कार्यशाला के उद्घाटन अवसर पर मलिक ने कहा कि वर्तमान कोविड-19 सरीखे काल में विकसित मैनेजमेंट बिल्डिंग के जरिए महामारी से जो भी समस्याएं पैदा हुई है, उनका समाधान संभव है। देश भर में शंकरा समूह द्वारा तकनीकी व प्रबंधन शिक्षा ग्रामीण विकास, हैल्थ केयर, एग्रीकल्चर एजुकेशन तथा वोकेशनल ट्रेनिंग सरीखे पाढ्यकमों के लिए 51 संस्थान चलाया जाना संचालक व ट्रस्ट के अध्यक्ष संत कुमार चौधरी का कुशल प्रबंधन व्यक्त करता है।
इस अवसर पर राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आर.ए गुप्ता ने कोविडकाल में इस आयोजन का उत्साहवर्धक बताया। उन्होंने बताया कि इन हालातों में भी आर.टी.यू. ने कर्वशॉप्स, एफ.डी.पी, वेबीनार्स, ऑनलाईन क्लासेज जारी रखी। ए.आई.सी.टी.ई भारत सरकार के उपाध्यक्ष एम.पी.पूनिया ने शंकरा एजुकेशनल ट्रस्ट के चेयरमैन एस.के. चौधरी तथा ट्रस्टी राहुल चौधरी के प्रति इस विषय पर कार्यशाला आयोजित करने की पहल की तारीक की।