Fri. Apr 10th, 2020

सब्जी मंडियों में खरीददारों की कमी से आवक हुई कम

  • कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए व्यापारी भी नहीं खोल रहे दुकानें, गली, मोहल्लों में किराना
  • आटा चक्की संचालकों ने शुरू की कालाबाजारी

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 25 मार्च। पूरे देश में कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन के बाद अब बाजार में खाद्य पदार्थों की किल्लत धीरे-धीरे आने लगी है। मंडियों में फल-सब्जियों की आवक भी सामान्य दिनों के मुकाबले कम हो गई। वहीं आड़त व थोक का काम करने वाले व्यापारी भी वायरस के फैलने की आशंका को देखते हुए मंडियों में कम ही पहुंच रहे है। यही नहीं खुदरा व्यापारियों की लिवाल (खरीद) भी बहुत कम हो गई। राजधानी जयपुर की सबसे बड़ी फल-सब्जी मंडी मुहाना की बात करें तो यहां सामान्य दिनों के मुकाबले दूसरे जिलों व राज्यों से आने वाली सब्जियों-फलों के ट्रकों की संख्या बहुत कम हो गई। थोक व्यापारी पर्याप्त ऑर्डर नहीं दे रहे। इसके पीछे कारण थोक व्यापारियों का माल भी आगे खुदरा व्यापारी नहीं खरीद रहे। दरअसल शहरों में गली-मोहल्लों में ठेला, फुटपाथ व हटवाड़ों के जरिए प्रतिदिन हजारों की संख्या में गरीब तबके के लोग फल-सब्जियां बेचकर अपना रोजगार चलाते थे। लेकिन लॉकडाउन के दौरान इस तरह का तबका लगभग 70 फीसदी शहरों को छोड़कर गांवों की ओर से पलायन कर चुका है। इनके नहीं होने से मंडियों में थोक विक्रेताओं की सब्जियों-फलों की बिक्री में बेहद कमी आई है।

सब्जियों के दाम में कोई खास बढ़ोतरी नहीं
मंडी के व्यापारियों की मानें तो फल-सब्जियों के दामों में फिलहाल कोई खास बढ़ोतरी नहीं हुई है। आवक भी पर्याप्त हो रही है, लेकिन माल नहीं बिकने के कारण व्यापारी आगे से ही ऑर्डर कम दे रहे हैं। मुहाना, लालकोठी, अम्बाबाड़ी, श्याम नगर, जौहरी बाजार, गोविंददेवजी मंदिर के पीछे संचालित मंडियों में भी यही हाल है। वहीं दाल, अनाज व धान मंडियों की स्थिति भी यही बनी हुई है।

खुदरा विक्रेताओं ने शुरू की कालाबाजारी
लॉकडाउन के चलते भले ही खाद्यानों की आवक में कोई कमी न हो। लेकिन अफवाहों व पाबंदी के चलते गली-मोहल्लों में संचालित खुदरा पंसारी, आटा चक्कियों के संचालकों ने कालाबाजारी शुरू कर दी। आटा, गेहूं, चावल, दलहन, चीनी सहित अन्य राशन की सामाग्री में 4-5 रुपए की तेजी कर दी। खुदरा व्यापारियों का तर्क है कि माल आगे से नहीं आ रहा और प्रशासन की सख्ती के चलते उन्हें भी सामाग्री लाने में परेशानी हो रही है।

दूध की सप्लाई प्रभावित: सरस डेयरियों पर भी दूध की सप्लाई आज प्रभावित हुई। जयपुर डेयरी के प्रवक्ता अनिल गौड़ ने बताया कि अब पूरे दिन में केवल एक बार (सुबह) ही दूध की सप्लाई की जाएगी। हालांकि इस सप्लाई में दोनों समय (सुबह और शाम) का लगभग 8.50 लाख लीटर दूध सप्लाई कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अब तक दोनों समय भी इतनी ही मात्रा में दूध सप्लाई किया जाता रहा है। उन्होने बताया कि लोगों में अफवाह है कि दूध की कमी है, लेकिन डेयरी में सामान्य दिनों की तरह पर्याप्त मात्रा में दूध आ रहा और उसे शहर में सप्लाई किया जा रहा है।