September 23, 2020

सभी शहरों में पाइप से रसोई गैस की तैयारी

  • जल्द बनाई जाएगी राज्य गैस नीति-2020
  • कई बातों पर रहेगा फोकस, काम में आई तेजी

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 17 सितम्बर। राज्य में शहरी गैस वितरण ढांचे के योजनाबद्ध और समयबद्ध विकास तथा उसके सुचारु क्रियान्वयन के लिए राज्य शहरी गैस वितरण नीति- 2020 बनाई जाएगी। इस नीति में शहरों में पाइपलाइन के माध्यम से घरेलू गैस का वितरण, उद्योगों के लिए गैस की आपूर्ति और सीएनजी स्टेशनों की आवश्यकतानुसार स्थापना पर जोर दिया जायेगा। इसके साथ ही सीएनजी वाहनों के लिए गैस की आपूर्ति सुनिश्चित कराने के लिए भी आधारभूत ढांचा तैयार किया जाएगा। राज्य गैस नीति को लेकर अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस एवं पेट्रोलियम डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि राज्य में पाइप लाइन के माध्यम से प्राकृतिक गैस का वितरण नेटवर्क विकसित किया जा सकेगा। डॉ. अग्रवाल ने राजस्थान राज्य गैस लि. के प्रबंध संचालक डॉ. संजीव पाठक से इस पर विस्तार से चर्चा कर शहरी गैस वितरण नीति का प्रारूप जल्द से जल्द तैयार कर राज्य सरकार को उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

इन पर दिया जाएगा जोर
डॉ. अग्रवाल ने बताया कि राज्य गैस नीति में प्रदेश के सभी शहरों में पाइप लाइन के माध्यम से शहरी गैस वितरण का नेटवर्क विकसित किया जाएगा। शहरों में प्राकृतिक गैस के पाइप लाइन के माध्यम से वितरण का आधारभूत ढांचा तैयार करने के लिए केन्द्र सरकार के पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस नियामक बोर्ड द्वारा अधिकृत किया जाता है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 19 शहरों के लिए विभिन्न कंपनियों को अधिकृत किया गया है, लेकिन समुचित मॉनेटरिंग व समन्वय के अभाव में शहरी गैस वितरण नेटवर्क गति नहीं पकड़ सका है। प्रस्तावित नीति में हरित और स्वच्छ ईंधन के रूप में प्राकृतिक गैस के उपयोग को बढ़ावा देने पर फोकस रहेगा। शहरी गैस वितरण आधारभूत संरचना को तेजी से विकसित करने, प्राकृतिक गैस के सुरक्षित और विश्वसनीय संचालन तथा निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित कराने पर जोर रहेगा।