Fri. Mar 22nd, 2019

सीकर जिले के किसान को दिल्ली में सम्मान

पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर गांव में छाई खुशी की लहर

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 12 मार्च। राजस्थान के सीकर जिले के अजीतगढ़ निवासी कृषि वैज्ञानिक जगदीश प्रसाद पारीक को सोमवार को नई दिल्ली में राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कृषि के क्षेत्र में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया। पुरस्कार मिलते ही अजीतगढ़ समेत क्षेत्र के गांवों में खुशी की लहर छा गई। 72 वर्षीय पारीक जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए नवाचार करते रहे हैं। उन्होंने अपने गांव के साथ देश का नाम भी रोशन किया है। पारीक ने नए-नए प्रयोग करते हुए किसान कृषि विशेषज्ञ का दर्जा प्राप्त किया। 1970 में पारीक ने खेती की शुरूआत की। उनके पिता का देहांत के कारण अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी और शुरूआत में गोभी की पैदावार शुरू की और आधा किलो से लेकर पौन किलो गोभी का उत्पादन किया। उन्होंने रासायनिक कीटनाशक का उपयोग नहीं किया बल्कि गोबर से बनी हुई जैविक खाद का प्रयोग किया। पारीक 25 किलो ढाई सौ ग्राम वजनी गोभी का फूल, 86 किलो कद्दू, 6 फीट लंबी घीया, 7 फीट लंबी तोरई, एक मीटर लंबा 2 इंच का बैंगन, 5 किलो का गोल बैंगन, ढाई सौ ग्राम मोटा प्याज, 3.30 फीट लंबी गाजर का उत्पादन कर चुके हैं। साथ ही अजीतगढ़ कलेक्शन के नाम पर स्वयं द्वारा गोभी का बीज भी पैदा कर चुके हैं और इसकी गोभी पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा, अब्दुल कलाम, प्रणब मुखर्जी, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, पूर्व राज्यपाल मार्गेट अल्वा को भेंट कर चुके हैं। पारीक को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर श्रीमाधोपुर विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत, सीकर जिला कलेक्टर चौथी लाल मीणा,श्री माधोपुर पंचायत समिति प्रधान सुमन निठारवाल, पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा, अजीतगढ़ के पूर्व सरपंच जगदीश चौधरी, बाबूलाल कुमावत, अजीतगढ़ ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के वाइस प्रेसिडेंट शंभू दयाल मीणा, अजीतगढ़ ब्लॉक कांग्रेस ,कमेटी के प्रसिडेंट हरि प्रकाश शर्मा समेत कई लोगों ने बधाई दी है।