September 22, 2020

सोम पुष्य नक्षत्र आज

खरीदारी के लिए अत्यंत शुभ है दिन

जयपुर, 14 सितम्बर। पुष्य नक्षत्र में किए गए शुभ कार्य उत्तम फल प्रदान करते हैं। इस योग में की गई भूमि, भवन, वाहन व ज्वेलरी आदि की खरीदी समृद्धिदायक होती है। आज सोम पुष्य नक्षत्र है, जो खरीदारी के लिए अत्यंत शुभ फल देने वाला माना जा रहा है। इसके चलते आज बाजारों में दिनभर रौनक रहने की उम्मीद है। सोम पुष्य नक्षत्र पर शहर के गणेश मंदिरों में भी दुग्धाभिषेक सहित कई आयोजन होंगे। प्रथम पूज्य गणपति का पंचामृत अभिषेक कर नवीन पोशाक धारण करवाकर गणपति को मोदक अर्पित किए जाएंगे। लॉकडाउन बाद पहली बार भक्त पुष्य नक्षत्र पर परकोटे वाले गणेश मंदिर व श्वेत सिद्धि विनायक मंदिर में गणपति का दुग्धाभिषेक कर सकेंगे। जबकि मोती डूंगरी गणेशजी, नहर के गणेश जी व गढ़ गणेश में दर्शनार्थियों के लिए अभी पट नहीं खुलने के कारण भक्तों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा।
मोती डूंगरी गणेश मंदिर में महंत कैलाश शर्मा के सान्निध्य में आज दूध, बूरा, शहद, केवड़ा जल, इत्र इत्यादि से अभिषेक कर गंगा जल से स्नान करवाया गया। इसके बाद नवीन पोशाक धारण करवा कर गणेशजी को मोदकों का भोग अर्पित किया। ब्रह्मपुरी स्थित नहर के गणेश मंदिर में महंत जय शर्मा के सान्निध्य में गणपति का अभिषेक कर मोदक का भोग लगाया। सूरजपोल बाजार स्थित श्वेत सिद्धि विनायक मंदिर में मंदिर के महंत मोहनलाल शर्मा के सान्निध्य में सुबह मंत्रोच्चार के बीच दुग्धाभिषेक हुआ।
चांदपोल स्थित परकोटे वाले गणेश मंदिर में आज सुबह मंत्रोच्चार के साथ प्रथम पूज्य के विधिवत अभिषेक के बाद विभिन्न आयोजन हुए। गणपति को दूध, दही, घी, शहद, बूरा, गुलाब जल और अनेक द्रव्यों से महास्नान कराया गया। इसके बाद गणपति को नवीन पोशाक धारण करा फूल बंगला झांकी सजाई। इस अवसर पर मंदिर प्रांगण मे गणपति स्त्रोत अष्टोत्तरशतनाम के पाठ किए गए। भक्तो को हल्दी की गाठ वितरित की गई। मंदिर के महंत अमित शर्मा ने बताया इस अवसर पर करोना जैसी महामारी के लिए विश्व कल्याण के लिए गणेश जी से प्रार्थना की गई।