September 22, 2020

हर नापाक कोशिश हो गई नाकाम

भाला-कंटीले तार लेकर पूरी तैयारी के साथ आए थे चीनी सैनिक

नई दिल्ली, 9 सितम्बर (एजेंसी)। लद्दाख में जारी तनाव के बीच चीनी सैनिकों ने एक बार फिर भारत को धोखा देने की कोशिश की है। हाल ही में भारतीय जमीन पर घुसपैठ की फिराक में आए चीनी सैनिक साथ में हथियार भी लिए हुए थे। एक न्यूज एजेंसी एएनआई द्वारा जारी की गई एक तस्वीर में चीनी सैनिक भाले,कंटीले तार और बंदूकों से लैस दिखाई दे रहे हैं। पूर्वी लद्दाख में रेजांग-ला रिजलाइन के मुखपारी स्थित एक भारतीय चौकी की ओर सोमवार शाम में बढऩे का प्रयास करने वाले चीनी सैनिकों ने छड़, भाले, रॉड और धारदार हथियार ले रखे थे। यह बात सरकारी सूत्रों ने भी मंगलवार को कही। वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव बढऩे के बीच सूत्रों ने कहा कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के लगभग 50-60 सैनिक शाम छह बजे के आसपास पैंगोंग झील क्षेत्र के दक्षिणी तट स्थित भारतीय चौकी की ओर बढ़े लेकिन वहां तैनात भारतीय सेना के जवानों ने दृढ़ता से उनका सामना किया, जिससे उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर होना पड़ा। चीन के सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में गलवान घाटी में 15 जून को हुई झड़पों के दौरान पत्थरों, कील लगे डंडों, लोहे की छड़ों आदि से भारतीय सैनिकों पर बर्बर हमला किया था, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। सूत्रों ने कहा कि सोमवार शाम में भी चीन के सैनिक छड़, भाले, रॉड और धारदार हथियार ले रखे थे। जब भारतीय सेना ने चीनी सैनिकों को वापस जाने के लिए मजबूर किया, तो उन्होंने भारतीय सैनिकों को भयभीत करने के लिए हवा में 10-15 गोलियां चलाईं। पीएलए ने आरोप लगाया था कि भारतीय सैनिकों ने एलएसी पार की और पैंगोंग झील के पास गोलीबारी की। भारतीय सेना ने मंगलवार को आरोपों को खारिज किया।