Fri. Jul 3rd, 2020

होटल, डाक बंगलेे निजी हाथों में जाएंगे

अब तक विरोध कर रही थी कांग्रेस

विशेष संवाददाता
जयपुर, 30 जून। विपक्ष में रहते हुए सरकारी संपतियों के निजीकरण का विरोध करती रही कांग्रेस का रूख अब सत्ता में आने के बाद बदल गया है। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार राज्य पर्यटन विकास निगम की होटल, मिडवे,सार्वजनिक निर्माण विभाग के डाक बंगले और पुराने किलों को निजी हाथों में देने पर विचार कर रही है। पिछली वसुंधरा राजे सरकार ने इसी तरह की योजना बनाई थी जिसका कांग्रेस ने विपक्ष में रहते हुए विरोध किया था। योजना को अमल में लाने से पहले ही सरकार बदल गई और कांग्रेस सत्ता में आ गई। सत्ता संभालने के बाद से ही गहलोत सरकार ने इन संपतियों का संचालन एवं मेंटिनेंस निजी कंपनियों को देने पर विचार करना शुरू कर दिया । इसके लिए मुख्य सचिव डीबी गुप्ता की अध्यक्षता में बैठकों के कई दौर हो चुके हैं। अब इन संपतियों को निजी हाथों में सौंपने का काम अंतिम दौर में है।

निगम की करीब 46 होटल बंद होने की स्थिति में : उल्लेखनीय है कि प्रदेश में राज्य पर्यटन विकास निगम की करीब 75 होटल है, जिनमें 46 बंद होने की स्थिति में है। 29 होटल भी घाटे में है। यही हालत मिडवे की है।