Wed. Sep 18th, 2019

20 सितम्बर से शुरू होगा ई-ऑक्शन के लिए रजिस्ट्रेशन और हैल्पलाइन

जयपुर (निसं.)। राजस्थान आवासन मण्डल में 30 सितम्बर से होने जा रहे मकानों एवं फ्लैट्स के ई-ऑक्शन के लिए इच्छुक आवेदकों का रजिस्ट्रेशन आगामी 20 सितम्बर से शुरू होगा। रजिस्ट्रेशन एवं ई-ऑक्शन प्रक्रिया के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने के लिए हैल्पलाइन भी इसी दिन शुरू की जायेगी। आवासन आयुक्त पवन अरोड़ा ने शुक्रवार को मीडिया प्रतिनिधियों से चर्चा कर ई-ऑक्शन वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन, नीलामी प्रक्रिया एवं नियम व शर्तों से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की वर्ष 2019-20 की बजट घोषणा की अनुपालना में मण्डल ने ई-ऑक्षन की पहल की है। मण्डल स्तर पर इस प्रक्रिया को सफलतापूर्वक संचालित कर अधिक से अधिक आवास सफल बोलीदाताओं को बेचने के लिए व्यापक स्तर पर व्यवस्थाएं की गई हैं। अरोड़ा ने कहा कि 42 शहरों की 50 योजनाओं में स्थित 9 हजार 605 आवासों की बिक्री के लिए मण्डल के वृत्त एवं खण्ड कार्यालयों में कैम्प लगवाए जा रहे है ताकि आमजन को अपनी पसंदीदा प्रॉपर्टी चिन्हित करने में किसी कठिनाई का सामना नहीं करना पड़े। वेबसाइट पर भी उपलब्ध मकानों एवं फ्लैट्स के नम्बर, आकार, बिल्डिंग प्लान, ले-आउट, फोटोज सहित अन्य जानकारी योजनावार उपलब्ध कराई जा रही है। उप आवासन आयुक्त कार्यालयों में बैंकों से सम्पर्क कर काउन्टर लगवाए जा रहे है, ताकि आवेदकों को ऋण लेने के लिए चक्कर नहीं लगाने पड़़े।
आवासन आयुक्त ने बताया कि ई-ऑक्शन में सम्मिलित सभी योजनाओं के लिए योजनावार नोडल अधिकारी लगाए गए हैं जिनके मोबाईल नम्बर आवासन मण्डल की वेबसाइट पर उपलब्ध कराए गए हैं। इनसे सम्पर्क कर इच्छुक आवेदक चिन्हित आवासों को मौके पर जाकर देख भी सकेंगे। ई-ऑक्शन को लेकर आमजन में उत्सुकता का माहौल बना है।

ई-ऑक्शन की प्रक्रिया: अरोड़ा ने बताया कि ऋणात्मक छूट पर आधारित ई-ऑक्शन में भाग लेने के लिए आवश्यक जानकारी भरकर एवं 590 रुपए का नॉन-रिफण्डेबल शुल्क देकर रजिस्ट्रेशन कराया जा सकेगा। ई-ऑक्षन में भाग लेने के लिए पसंदीदा आवास की आरक्षित दर की 5 फीसदी राशि बतौर सिक्योरिटी जमा करनी होगी। ई-ऑक्षन बंद होने के बाद सफल बोलीदाताओं को 10 प्रतिशत राशि जमा कराने के लिए 72 घण्टे का समय दिया जाएगा। यह राशि जमा करने पर सफल बोलीदाता हाथों-हाथ मांग पत्र डाउनलोड कर सकेंगे। शेष राशि जमा करने के लिए 60 दिन का समय दिया जाएगा। पूरी राशि और जरूरी दस्तावेज जमा होने के बाद प्रॉपर्टी का कब्जा बोलीदाता को दे दिया जाएगा।