September 24, 2020

25 पाक विस्थापितों को मिली भारतीय नागरिकता

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 25 जून। तमाम परेशानियों के बीच कोरोना का लॉकडाउन प्रदेश में 25 परिवारों के लिए खुशियां लेकर आया है। पाकिस्तान से प्रताडि़त होकर राजस्थान आए इन परिवारों को बरसों बाद नई पहचान मिली है। कोरोना पीरियड में इन सबको भारतीय नागरिकता दी गई है। पाकिस्तान में जुल्मो-सितम से परेशान होकर करीब दस से 12 वर्ष पहले भारत आए थे. भारत आने के बाद भी मुसीबतें कम नहीं हुई। भारतीय नागरिकता नहीं मिलने के कारण आम नागरिक की कोई भी सरकारी सुविधा नहीं मिल पा रही थी। पाली, जालोर और बाड़मेर जिले में बड़ी संख्या में पाक विस्थापितों ने भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन किया। आईबी रिपोर्ट सहित अन्य औपचारिकताएं पूरी हुई तो अचानक लॉकडाउन लग गया। लोगों का आना-जाना बंद हो गया। इस बीच गृह विभाग ने नागरिकता प्रमाण पत्र तैयार कर सम्बंधित जिला कलेक्टरों को भिजवाए।

इन्हें मिली खुशियों की सौगात
जालोर से मालवेंद्र सिंह, डील कंवर, रामसिंह, कोजराज सिंह, नखत कंवर, प्रदीप सिंह, जनता, मदनलाल, उगम बाई, सुरज बाई, पुस्त बाई, प्रेमचंद, मोरोबाई, किशनलाल और लालचंद को भारतीय नागरिकता मिली। बाड़मेर से सायर बाई को नागरिकता दी गई।
पाली से इज्जत सिंह, महावीर सिंह सोढा, मान कुमारी, जस्सू बाई, पप्पू, मेमून बाई, गुलाब सिंह तथा गुलाब बाई को नागरिकता दी गई है।