Wed. Sep 18th, 2019

थ्रेडिंग के बाद होने वाले पिंपल से बचें ऐसे

थ्रेडिंग आईब्रो पर मौजूद बालों को हटाने का पुराना तरीका है, जिसका इस्तेमाल काफी पहले से किया जा रहा है। थ्रेडिंग लगभग सभी तरह की स्किन की जाती है, चाहे आपकी स्किन सेंसिटिव क्यों न हो। वैक्सिंग जैसे विकल्प की तुलना में थ्रेडिंग एक बेहतर औप्शन है, क्योंकि यह स्किन की परत को दूर नहीं करती। लेकिन कभी-कभी खासकर सेंसिटिव स्किन पर थ्रेडिंग करवाने के बाद पिंपल्स, चकते या स्किन में लालिमा आ जाती है। अगर आपकी भी यही प्रौब्लम है तो ये टिप्स आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

थ्रेडिंग से पहले फेस को करें क्लीन
थ्रेडिंग करवाने से पहले फेस को धोकर अच्छे से पोंछ लें। स्किन को गुनगुने पानी से धोने पर ज्यादा फायदा होता है। इससे थ्रेडिंग करवाते समय दर्द कम होगा और आप फ्रेश फील करेगी। फिर एक कौटन का साफ कपड़ा लेकर अपने फेस को हल्के हाथों से पोंछ लें। क्योंकि रगड़कर पोंछने से आपकी स्किन ड्राई हो सकती है।

थ्रेडिंग से पहले होममेड टोनर का करें इस्तेमाल
अब घरेलू टोनर लगाकर अपने फेस को हल्का नम कर दें। दाने वाली स्किन के लिए विच हेजल जडी़ बूटी से बना टोनर अच्छा रहता है। आप चाहें तो दालचीनी की चाय को टोनर के रूप में लगा सकते हैं। अब पार्लर में जाकर थ्रेडिंग बना लें।

थ्रेडिंग करवाने के बाद ये टिप्स अपनाएं
टोनर को आईब्रो पर लगाकर बर्फ लगाएं। इससे आपको जलन और संक्रमण नहीं होता है। अगर आप अपना चेहरा धोना चाहती हैं तो गुलाब जल से धोयें। यह प्राकृतिक जल, आईब्रो पर लगने वाले कट को सही कर देता है और दाने व पिंपल भी सही हो जाते हैं।

12 से 24 घंटे के बीच थ्रेडिंग वाले हिस्से को न छूएं
सुनिश्चित करें कि थ्रेडिंग करवाने के बाद 12 से 24 घंटे के बीच थ्रेडिंग वाले हिस्से को न छूएं। ऐसा करने से वहां पिंपल्स, चकते या जलन पैदा हो सकती है। कोशिश करें थ्रेडिंग के तुरंत बाद किसी भी प्रकार के स्टीम ट्रीटमेंट से बचें।

कैमिकल वाले कॉस्मैटिक से बचना है जरूरी
अपने फेस पर थ्रेडिंग करवाने के बाद, उस हिस्से में कम से कम 12 घंटे की अवधि के दौरान एसिड की मौजूदगी वाले सुगांधित कॉस्मेटिक उत्पाद जैसे क्लींजर और मौइश्चराइजर न लगाये। ऐसा इसलिए क्योंकि यह एसिडिक उत्पाद स्किन की बाहरी परत को हटा देते हैं। बाल हटाने के बाद इन्हें इस्तेमाल करने से प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है।