December 1, 2020

इन आसनों के नियमित अभ्यास से कर सकते हैं स्ट्रोक के खतरे को कम

योगा स्ट्रोक से बचाए रखने में काफी हद तक मददगार साबित हो सकता है क्योंकि इससे बॉडी में सही तरीके से रक्त संचार होता है। हाई-लो ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल, मोटापा और डायबिटीज जैसी बीमारियां स्ट्रोक की खास वजहें होती हैं जिन्हें अच्छे खानपान, लाइफस्टाइल और नियमित व्यायाम से कंट्रोल और कम किया जा सकता है। हम ऐसे कुछ योग आसनों के बारे में बात करेंगे जिनका अभ्यास आपको स्ट्रोक के खतरे से रखेगा दूर।

भुजंगासन
हिप्स और उसके आसपास का एरिया इस आसन से स्ट्रॉन्ग होता है जिससे डाइजेशन सुधरता है। इसके अलावा ये आसन गैस, हार्ट बर्न और एसिडिटी की समस्या से भी राहत दिलाता है। इससे फेफड़े और हार्ट की कार्यक्षमता में भी इजाफा होता है। हाथ और बैक की मसल्स मजबूत और फ्लेक्सिबल होती है। सबसे जरूरी इस आसन को अपनी लाइफस्टाइल में शामिल कर आप स्ट्रोक से बचे रह सकते हैं।

वृक्षासन: वृक्षासन योग आपके मन को एकाग्र और शांत रखता है। साथ ही बॉडी के दूसरे हिस्सों को भी हेल्दी बनाता है। इस आसन के रोजाना अभ्यास से बॉडी बेलेंसिंग में मदद मिलती है। इतना ही नहीं वेरिकोज़ वेन के प्रॉब्लम भी इससे दूर की जा सकती है।

उष्ट्रासन: हार्ट, स्पाइन और फेफड़ों को लचीला बनाने के साथ ही उष्ट्रासन ब्लड सर्कुलेशन सुधारता है। इसके साथ ही इसके अभ्यास से मिरगी, स्ट्रेस और स्ट्रोक के खतरे की संभावनाओं को कम किया जा सकता है।

धनुरासन: बैली फैट कम करने के लिए तो ये आसन फायदेमंद है ही लेकिन इसके साथ ही ये बॉडी के दूसरे अंगों जैसे हार्ट, हिप्स और फेफड़ों को भी मजबूत और लचीला बनाने का काम करता है। आर्थराइटिस की वजह से होने वाले बॉडी पेन को भी इस आसन की मदद से कंट्रोल किया जा सकता है।