Fri. Apr 10th, 2020

खाने में करें इन फल और सब्जियों का इस्तेमाल

1. लालमिर्च
लालमिर्च में विटामिन ए, सी तथा बी 6 भरपूर मात्रा में पाया जाता है। ये सभी ऐंटीऔक्सीडैंट को कायम रखने, मस्तिष्क को तेज करने के साथ ही उस की गतिशीलता को बढ़ाने, त्वचा, नेत्रों तथा मांसपेशियों को ताकत देने का कार्य करते हैं। मिर्च रेशा, पोटैशियम, मैगनीज जैसे तत्त्वों को काया में पहुंचाने का भी अच्छा साधन है। ये वजन पर अंकुश रखने के साथसाथ कोलैस्ट्रौल लैवल को भी कम करते हैं।

2. तरबूज
रंगीन, रसीले फल तरबूज का 80त्न भाग पानी होता है। यह आयरन, गंधक, तांबा, कैल्सियम, फास्फोरस, विटामिन ए, थायमिन, रिबोफ्लेविन व एस्कोर्बिक ऐसिड का बेहतर स्रोत है। तरबूज का हलका लाल वाला भाग विटामिन का अच्छा स्रोत है तथा बीटा कैरोटिन से दोगुना ताकतवर होता है। यह विटामिन ई की सामर्थ्य को भी 10 गुना बढ़ा देता है, जिस से त्वचा को हानि पहुंचाने वाले फ्रीरैडिकल्स निष्क्रिय हो जाते हैं।

3. टमाटर
पका टमाटर, जिस का रंग खून से मिलताजुलता होता है, खून बढ़ाने में बेजोड़ है। टमाटर निरोगता के लिए अधिक लाभकारी होता है। टमाटर में विटामिंस भरपूर मात्रा में मिलते हैं। इस में पाए जाने वाले विटामिंस में यह विशेषता होती है कि जहां दूसरे पदार्थों में मौजूद विटामिंस थोड़ी सी आंच लगने से खत्म हो जाते हैं वहीं इस में मौजूद विटामिंस साधारण आंच में खत्म नहीं होते। आयरन की मात्रा इस में दूध की अपेक्षा दोगुनी व अंडे की अपेक्षा 5 गुना ज्यादा मिलती है।

4. शलगम
शालगम क्रूसी फेरी कुल का सदस्य है। इस के अन्य सदस्य मूली, गाजर हैं। इस में भरपूर पोषक तत्त्व पाए जाते हैं। पोटैशियम, फास्फोरस, कैल्सियम व विटामिंस की वजह से यह अनेक बीमारियों को दूर करने की क्षमता रखता है। इस में मौजूद ग्लूकोसाइनोलेट्स के कारण ही इस में तीखापन होता है। यह अचार, सब्जी, सलाद, मुरब्बे के तौर पर प्रयोग में लाया जाता है।

5. चुकंदर
इस में पानी तथा रेशों की अधिक मात्रा होने से यह पाचन में सहायक होता है। चुकंदर के पोषक तत्त्वों में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट्र, कैल्सियम, फास्फोरस, नमी, लोहा, वसा, विटामिन ए, बी-1, बी-2, सी, डी, सोडियम, क्लोरीन, फौलिक ऐसिड, आयोडीन खास हैं। वैज्ञानिकों के अनुसार बीटासियानिन (वह रंग जो चुकंदर को रंगयुक्त करता है) ट्यूमर आदि को नष्ट करने वाला एक समृद्धशाली घटक है। चुकंदर खून की मात्रा में वृद्धि करता है और चेहरे की कांति बरकरार रखता है। समस्त पोषक तत्त्वों के गाढ़े लाल रंग के रस को पाने के लिए तरोताजा चुकंदर ही प्रयोग करें ताकि उस का छिलका सही रह सके। कभी चुकंदर का छिलका न हटाएं।

6. सेब
यह जायकेदार होने के साथ ही ज्यादा ऊर्जादायक व स्वास्थ्यवर्द्धक भी है। इस में पेक्टिन नामक घुलनशील रेशा होता है, इसलिए यह भोजन के पाचन व विसाक्त तत्त्वों को अवशोषित करने में आंतों की सहायता करता है। इसे खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं। सेब में ऐंटीऔक्सीडैंट्स और विटामिन सी होता है। ये खून में कोलैस्ट्रौल का लैवल कम करते हैं। एक सेब में करीब 8 एमएल विटामिन सी और भरपूर विटामिन ए होता है। सेब के गूदे की अपेक्षा छिलके में विटामिन ए 5 गुना ज्यादा होता है, इसलिए सेब को छिलके सहित खाना चाहिए।

7. स्ट्राबेरी
लाल रंग से भरी स्ट्राबेरी का नाम लेते ही मुंह में पानी आ जाता है। सुर्ख रंग से पूर्ण स्ट्राबेरी खट्टेमीठे स्वाद और अपने खास गुणों के कारण जानीपहचानी जाती है। आड़ू, सेब तथा स्ट्राबेरी एक ही समूह के हैं। स्ट्राबेरी में मैगनीज व पोटैशियम होता है। इस में पेक्टिन यानी फल का रेशा पाया जाता है। जो ब्लडप्रैशर तथा कोलैस्ट्रौल को संयमित करने में सहायक होते हैं।