Wed. Jul 17th, 2019

चेहरे की देखभाल से जुड़े मिथ जानें इनकी हकीकत

जब भी हमें अपनी स्किन से जुड़ी कोई समस्या होती है तो हम अक्सर टीवी पर दिखने वाली फैंसी बोतलों और उनपर लिखी गई चंद पंक्तियों के दावों को सच मानकर दुकानों पर जाकर उत्पाद खरीद लेते हैं। हमारी इस लालसा को और प्रबल बनाती है उस उत्पाद पर छपी तस्वीरें। उस वक्त हमें यह अहसास नहीं होता कि त्वचा की देखभाल सभी हालात में फिट नहीं बैठती। कभी-कभार इनका असर इसके ठीक विपरीत भी होता है।

मिथ: छोटी सी मात्रा का प्रयोग करें
यह मिथ हमारे बालों की देखभाल से शुरू होकर हमारी त्वचा की देखभाल तक के लिए अपना रास्ता बना ही लेता है। कभी-कभार आप टीवी पर कुछ कंपनियों को ह मिथ प्रसारित करते भी देखते हैं। जब आप विज्ञापनों में मामूली सी मात्रा लगाते देख भरपूर निखार व सुंदर त्वचा होती देखते हैं तो आप उस भ्रम में फंस जाते हैं।
जब भी आप संदेह की स्थिति में हो तो बोतल के पीछे लिखी मात्रा से थोड़ा ज्यादा प्रयोग करें क्योंकि हर किसी व्यक्ति के चेहरे का आकार अलग होता है और उसके चेहरे द्वारा सोखी जानी वाली मात्रा भी। उदाहरण के लिए फेस ऑयल की दो बूंदें संतुलित ऑयली स्किन के लिए बेहद ज्यादा हैं लेकिन जब इसे डिहाइड्रेटेड स्किन पर प्रयोग किया जाएगा तो यह बहुत कम होगी।

मिथ: आपको टोनर की बिल्कुल जरूरत है
मॉस्चराइजर लगाने से पहले अगर आप स्टैंडर्ड टोनर का प्रयोग करते हैं तो वह त्वचा पर जमा अत्याधित धूल और तेल को हटाता है। ब्रांड पर निर्भर होने के नाते वह आपकी त्वचा को चमक और नरम बनाने में मदद का वादा करते हैं।
जबकि विशेषज्ञों का मानना है कि टोनर केवल आपके ब्यूटी रूटिन में सहायता कर सकता है, और हर किसी को इसकी जरूरत नहीं है। बहुत से उत्पादों का प्रयोग आपकी त्वचा को खराब कर सकता है। अगर आप टोनर का प्रयोग करते हैं आप अपने टोनर की अन्य उत्पादों से तुलना करें।

मिथ: मेकअप हटाने का बेस्त तरीका मेकअप वाइप्स
अगर आपको हाइपर पिग्मेंटेशन का खतरा है, तो मेकअप वाइप्स वास्तव में रगड़ का कारण बन सकता है और अगर आप रोजाना इनका इस्तेमाल करते हैं तो धीरे-धीरे आपकी त्वचा हार्श हो सकती है। इसके अलावा बहुत सारे मेकअप वाइप्स में अल्कोहल होता है, जो संवेदनशील त्वचा के लिए चुभन का कारण बन सकता है। अगर आप मेकअप वाइप्स का उपयोग करना चाहते हैं उनका उपयोग सीमित करने का प्रयास करें।

मिथ: अपने चेहरे को अपने हाथों से नहीं छुएं
त्वचा से जुड़े मिथ कहीं से भी आ सकते हैं विशेषकर किसी के भी मुंह से। आपने अक्सर सुना होगा कि मुंहासों को रोकने के लिए अपने चेहरे को छूना बंद करें लेकिन इन्हें दूर करने के लिए छूना ही एकमात्र रास्ता है।
त्वचा विशेषज्ञ कहते हैं कि फोन पर स्क्रॉल करने और फिर बाद में मेरे चेहरे को छूने से यह समस्या बढ़ सकती है। जाहिर तौर पर टॉयलेट सीट से अधिक बैक्टीरिया हमारे फोन पर जमा होते हैं। दरअसल इसकी वजह हमारे नाखून हैं, जिनसे अधिकतर बीमारियां फैलती हैं। लंबे नाखूनों में गंद ज्यादा जमा होता है और अगर उसमें बैक्टीरिया है तो यह आपके चेहरे पर फैल सकता है और संक्रमण का कारण बन सकता है।