September 21, 2020

महाराण प्रताप को दिए वचन को निभाती गाडिय़ा लोहार की स्टोरी लेकर आई हैं डीना उप्पल

मॉडल, अभिनेत्री डीना उप्पल ने अपनी पहली डॉक्यूमेंट्री का निर्माण पूरा किया है। इस फिल्म का निर्देशन डीना उप्पल ने स्वयं किया है। डॉक्यूमेंट्री ‘इंडियाज फॉरगॉटेन पीपल’ में गदिया लोहार समुदाय के जीवन और कठिनाइयों को दिखाया गया था। फिल्म को राजस्थान के विभिन्न हिस्सों में एक वर्ष तक शूट किया गया था। फिल्म समुदाय के जीवन के अनूठे तरीके की पड़ताल करती है और सरकारी अधिकारियों से भी सवाल करती है कि इस समुदाय को अपेक्षित मदद क्यों नहीं मिल रही है।
भारत के गौरवशाली लेकिन काफी हद तक भुलाए गए गदिया लोहार समुदाय का इतिहास और कहानी पहली बार बखूबी तरीके से पेश किया गया है। ‘इंडियाज फॉरगॉटन पीपल’ का ट्रेलर अभी जारी किया गया है। गदिया लोहार के निर्माता डीकूयू प्रोडक्शन है। इस फिल्म में मिशन इंपोसिबल और जज ड्रेड जैसी फिल्मों में काम कर चुक रिचर्ड ब्लांसर्ड एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर की भूमिका में हैं। इस फिल्म की अवधि 52 मिनट की है।
उप्पल बताती है कि इतिहास प्रसिद्ध गाडिय़ा लोहार महाराणा प्रताप की सेना के साथ कंधे से कंधे मिलाकर चले थे। प्रताप की सेना के लिए घोड़ों की नाल, तलवार और अन्य हथियार बनाते थे। आज वे दर-दर की ठोकरें खाते हुए एक घुमक्कड़ जिन्दगी बिता रहे हैं। मेवाड़ में महाराणा प्रताप ने जब मुगलों से लोहा लिया और मेवाड़ मुगलों के कब्जे में आ गया। महाराणा की सेना में शामिल गाडिय़ा लोहारों ने प्रण लिया कि जब तक मेवाड़ मुगलों से आजाद नहीं हो जाता और महाराणा गद्दी पर नहीं बैठते, तब तक हम कहीं भी अपना घर नहीं बनाएंगे और अपनी मातृभूमि पर नहीं लौटेंगे। यह डाक्यूमेंट्री उनके जीवन के विविध पहलुओं को दिखाती है।
कुछ समय पहले डीना उप्पल की ‘ये है इंडिया’ फिल्म आई थी। इस फिल्म को गूगल और फेसबुक मुख्यालय में विशेष रूप से प्रदर्शित और सम्मानित किया गया था। फिल्म में मुख्य भूमिकाएं गैवी चहल और डीना उप्पल ने मुख्य भूमिकाएं निभाई थी।