Sun. Sep 22nd, 2019

इस होममेड पीएच बैलेंस शैंपू से पाएं मजबूत और शाइनी हेयर

महिलाएं अपने बालों की खूबसूरती निखारने के लिए तरह-तरह के प्रयोग करती हैं। कभी वे हेयर पैक ट्राई करती हैं तो कभी वे बालों की ग्रोथ अच्छी करने का दावा करने वाले शैंपू यूज करती हैं। कई बार महंगे हेयर पैक और शैंपू आजमाने के बाद भी बालों पर कोई खास असर नजर नहीं आता और पैसे भी अच्छे-खासे खर्च हो जाते हैं। आज के समय की बढ़ती व्यस्तता, स्ट्रेस और पॉल्यूशन, ये सभी चीजें बालों को नेगेटिव तरीके से प्रभावित करती हैं, जिनके कारण बालों के रूखे, बेजान होने और झडऩे की समस्या दिखाई देती है। ऐसी स्थिति में मजबूत और चमकते बाल पाने के लिए कुदरती तत्वों पर भरोसा किया जा सकता है।

घर पर बनाएं पीएच बैलेंस शैंपू
कुदरती तत्वों से भरपूर घर पर तैयार किया गया शैंपू बालों के लिए बेस्ट रहता है, क्योंकि इसमें हानिकारक कैमिकल्स नहीं होते, साथ ही ऐसे शैंपू बालों को पोषण भी देते हैं। इसके सैच्युरेटेड फैट बालों का झडऩा कम कर देता है। इस लिहाज से कोकोनट मिल्क बालों के लिए बहुत अच्छा है। यह बालों की कोमलता से सफाई करने के साथ-साथ उनकी चमक भी बढ़ा देता है। वहीं एलोवेरा भी बालों को पोषण देने के लिए रामबाण माना जाता है।

  • कोकोनट मिल्क और एलोवेरा का शैंपू देगा बालों को मजबूती
  • कोकोनट मिल्क की एक कैन या फिर 11/2 कप, अगर आप खुद ही कोकोनट मिल्क निकाल रही हैं
  • 1 3/4 कप शुद्ध एलोवेरा जेल

कोकोनट मिल्क और एलोवेरा का शैंपू ऐसे तैयार करें

  • एलोवेरा जेल और कोकोनट मिल्क, दोनों को एक कटोरे में मिलाकर एक गाढ़ा पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इस मिश्रण को आइस क्यूब ट्रे में डाल दें। इसके बाद इसे फ्रीजर में रखकर जमा लें। ये क्यूब्स एक हफ्ते तक सही रहते हैं।
  • इस होममेड नेचुरल शैंपू से हेयर फॉल से लेकर दो मुंहे बाल, डैंड्रफ, सिर में खुजली जैसी सभी समस्याओं में राहत मिलती है। साथ ही बालों की चमक भी बढ़ जाती है। बालों को भीतर से पोषण मिलने से हेयर वॉल्यूम बढ़ जाती है और आपके बाल पहले से ज्यादा खूबसूरत नजर आते हैं।

कोकोनट मिल्क और एलोवेरा का शैंपू ऐसे इस्तेमाल करें
जब भी आपको हेयर वॉश करना हो, एक क्यूब निकालें और इससे बालों और स्केल्प पर मलें। स्केल्प पर मलते हुए इसे बालों पर आखिरी छोर तक पूरी तरह से मल लें। यह बाजार में मिलने वाले शैंपू की तरह झाग नहीं देता। अगर आपको लगे कि इसे लगाने के बाद बाल चिपचिपे फील हो रहे हैं तो इसके बाद बालों पर सिरके का इस्तेमाल करें। इसके लिए एक ढक्कन सिरका एक कप पानी में लेकर अपने बालों पर डाल लें। अगर यह मिक्सचर बच जाता है तो आप इसे अगली बार इस्तेमाल के लिए वापस फ्रीजर में रख दें।

कुदरती तत्वों से बरकरार रहता है स्केल्प का पीएच बैलेंस
हेल्दी पीएच बैलेंस बैक्टीरिया और फंगस से लडऩे में मदद करता है और स्केल्प को साफ रखता है। नॉर्मल पीएच बैलेंस से हेयर क्यूटिकल का मॉश्चराइज बरकरार रहता है और बाल टूटने की समस्या में भी कमी आती है। बालों को हेल्दी रखने के लिए पीएच बैलेंस 4.5-5.5 के बीच होना चाहिए। ऐसे में ऐसे तत्व बालों के लिए अच्छे रहते हैं जो कम एल्कलाइन हों और एसिटिडी के स्तर को ज्यादा ना होने दें। कई बार शैंपू में ज्यादा कैमिकल्स की वजह से उसका पीएच 7 तक बहुत जाता है, जो स्केल्प का नेचुरल एसिडिक सीबम हटा देता है, जो बैक्टीरिया से फाइट करने में मदद करता है। यही सीबम डैंड्रफ, हेयर फॉल और बालों में होने वाली फंगस से भी बचाता है।