Tue. Jul 16th, 2019

बर्फ के बीच कुदरती सौंदर्य का खज़ाना है लाहुल-स्पीति

मैदानों में गर्मी की तपिश है तो देश में ऐसे भी क्षेत्र हैं, जहां बिछी है बर्फ की चादर। इन्हें नैसर्गिक स्वरूप में देखना हो तो चले आइए लाहुल-स्पीति। विशाल पर्वतों के दायरे, बर्फीली वादियों और इनके बीच बसी स्पीति घाटी। इस जगह पर बारिश नहीं, बस बर्फबारी होती है। साल के 6 माह जहां देखें बस बर्फ की सफेद चादर बिछी होती है। हरियाली का नामोनिशा नहीं। हां, लाहुल में आपको जंगल मिल जाएंगे, लेकिन यहां लद्दाख और तिब्बत की सीमा से सटी झीलों और हिमखंडों से घिरी स्पीति घाटी में यह हरियाली नहीं मिलेगी। दरअसल, लाहुल-स्पीति आने का एहसास अनिवर्चनीय है। गोंपा और बौद्ध भिक्षुओं के मंत्रोच्चारण की गूंज ऐसी अलौकिक अनुभूति से भर देती है कि आप उसे ताउम्र नहीं भुला पाते। प्राचीन काल से यह स्थान घुमक्कड़ों, बौद्ध साधकों, व्यापारियों और खोजियों को अपने मोहपाश में बांधता आया है। यदि आप एडवेंचर के शौकीन हैं तो आप पाएंगे कि यह आपके लिए रोमांच का एक आदर्श पड़ाव है।

टशीगंग: दुनिया का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र
लोकसभा चुनाव के इस मौसम में देश के विभिन्न स्थानों की खासियतों के बारे मेंजानना रोचक है। लाहुल स्पीति भी खास है। यहां के मंडी संसदीय क्षेत्र के टशीगंग मतदान केंद्र को दुनिया का सबसे ऊंचा मतदान केंद्र होने का गौरव हासिल हुआ है। टशीगंग 15256 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। इस मतदान केंद्र में कुल 49 मतदाता हैं। इसमें 29 पुरुष व 20 महिलाएं हैं। खास बात यह है कि इस बार इतनी ऊंचाई पर यह मतदान केंद्र पहली बार मतदाताओं के लिए तैयार किया गया है। पहले यह मतदान केंद्र कम ऊंचाई वाले सामुदायिक भवन में था। बरसात के कारण जब यह सामुदायिक भवन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया, तब इसे राजकीय प्राथमिक स्कूल टशीगंग के भवन में स्थापित किया गया था।

बारालाचा दर्रा: सैलानियों की पहली पसंद
लाहुल घाटी में बारालाचा दर्रा सैलानियों की पहली पसंद बनने लगा है। यह दर्रा मनाली व लाहुल को लेह से जोड़ता है। इस दर्रे पर आपको जून-जुलाई में भी बर्फ के दीदार हो सकते हैं। मनाली से लेह जाने वाला हर यात्री यहां रुककर बर्फ में अठखेलियों का आनंद लेता है। वास्तव में यह पूरा रास्ता दिलफरेब है। समुद्र तल से 4843 मीटर की ऊंचाई पर स्थित बारालाचा दर्रे पर आकर आप इस खूबसूरत कुदरती वरदान पर गर्व करेंगे। यदि आप ट्रैकिंग के लिए यहां आते हैं तो यहां आपको पर्यटकों की भीड़ मिलेगी।

उम्मीदें जगाती रोहतांग टनल
रोहतांग सुरंग को लाहुल-स्पीति के लिए एक वरदान माना जा रहा है। हालांकि अभी यह सुरंग खुली नहीं है। पिछले करीब 10 साल से इसका काम चल रहा है। बर्फ से लदे पहाड़ों के बीच में बनी यह सुरंग लाहुल-स्पीति की खूबसूरती में चार चांद लगाती है। छह महीने तक बर्फ की कैद में रहने वाली घाटी रोहतांग सुरंग का तोहफा मिलने के बाद साल भर पर्यटकों के लिए खुली रहेगी, फिर पर्यटकों को गर्मी के मौसम का इंतजार नहीं करना पड़ेगा, तब आप वर्ष के किसी भी समय यहां आ सकते हैं।

सबसे बड़ी थंका पेंटिंग
यहां शशूर गोंपा यानी मठ जांस्कर के लामा देव ग्यात्शो ने 17वीं शताब्दी में स्थापित किया था, जो भूटान के राजा नवांम नामग्याल के मिशनरी थे। देव ग्यात्शो मृत्यु तक मठ में ही रहे। मान्यता है कि जब उनका अंतिम संस्कार किया गया, तब उनका दिल जला नहीं था। यहां ग्यात्शो का काला चित्र व प्रतिमा भी देखी जा सकती है। यहां आप सबसे बड़ी थंका पेंटिंग भी देख सकते हैं, जो पंद्रह फीट से अधिक लंबी है। जून-जुलाई में मठ में छम (देव समारोह) का आयोजन होता है, जो लाहुल में सर्वाधिक लोकप्रिय है। इस मौसम में यहां आएं तो आप भी इस आयोजन में जरूर शिरकत करें।

अनूठा भूचेन नृत्य
यहां पिन वैली का भूचेन नृत्य देशभर में लोकप्रिय है। ये विशेष धार्मिक अनुष्ठान के साथ नृत्य करते हैं। इस नृत्य के दौरान उनका छाती पर पत्थर तोडऩे का दृश्य दर्शकों को अचरज में डाल देता है। हालांकि यह उनकी संस्कृति है, जिसेबड़े प्यार से सहेजकर रखा गया है।

सबसे बड़ा मठ कीह गोंपा
समुद्र तल से 13504 फीट ऊंचा कीह गोंपा काजा से 12 किमी दूर है। इस मठ की स्थापना 13वीं शताब्दी में हुई थी। इसका निर्माण बौद्ध गुरु रिग्छेन संगपा ने कराया था। यह स्पीति का सबसे बडा मठ है, जहां हर साल सैकड़ों बौद्ध भिक्षु शिक्षा ग्रहण करते हैं। इस मठ में प्राचीन हस्तलिपियों व थंका पेंटिंग कासंग्रह मौजूद है।

दुनिया की सबसे ऊंची सड़क
समुद्र तल से 14800 फीट की ऊंचाई पर बसा स्पीति का कौमिक गांव दुनिया की सबसे ऊंची सड़क से जुड़ा गांव है। चीन की सीमा के पास बसा यह गांव सबसे ऊंचा होने के कारण सैलानियों के आकर्षण का केंद्र बना रहता है। काजा से लगभग 22 किमी दूर स्थित है कौमिक गांव।

कैसे जाएं?
हिमाचल के कुल्लू जिले की पर्यटन नगरी मनाली से रोहतांग व कोकसर होते हुए लाहुल पहुंचा जा सकता है। मनाली से जिला मुख्यालय केलंग की दूरी 110 किमी है। गर्मियों में शिमला से किन्नौर से होते हुए स्पीति घाटी व कुंजम दर्रे से होकर लाहुल पहुंचा जा सकता है। जम्मू से किश्तवाड़ व पांगी होते हुए भी लाहुल-स्पीति आया जा सकता है। लेह से मनाली आने वाले सैलानी लाहुल घाटी से होकर गुजरते हैं। यहां तक पहुंचने का साधन सिर्फ सड़कें ही हैं। सर्दी में सरकार हवाई उड़ानें संचालित करवाती है, लेकिन वे सैलानियों के लिए नहीं होतीं।

लाहौल-स्पीति में लें नॉन-वेजिटेरियन जायकों का मज़ा
लाहौल-स्पीति एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है, इसलिए यहां अलग-अलग प्रकार के खानपान का लुत्फ ले सकते हैं। स्पीति का खानपान व रहन-सहन लद्दाख व तिब्बत से मिलता-जुलता है। अधिकांश रेस्तरांओं में भारतीय भोजन दाल-चावल व रोटी-सब्जी भी मिलती है। स्पीति घाटी का स्कयू, फैमर, शूनाली पर्यटकों में काफी लोकप्रिय है। ये थुपका व मोमोज की तर्ज पर ही बनाए जाते हैं। चूंकि ये स्थानीय हैं, इसलिए स्वाद में अलग होते हैं। यदि आप मांसाहारी व्यंजनों के शौकीन हैं, तो इस लिहाज से यह स्थान आपको खासा पसंद आएगा। दरअसल, बर्फीला क्षेत्र होने के कारण मांसाहारी भोजन की अधिकता है, जो तिब्बती अंदाज में ही तैयार किए जाते हैं। यहां आपको पारंपरिक व्यंजनों का आनंद लेना हो तो यहां खुले रेस्तरां का रुख करना चाहिए। काजा में खुले रेस्तरां खूब हैं।

मक्खन वाली चाय: याक के दूध की क्रीम से बनने वाली यहां की मक्खन वाली चाय जरूर चखें। इसका फ्लेवर बिलकुल ही अलग होता है। ये आमतौर में रेस्टोरेंट्स में नहीं मिलती पर यहां घरेलू खाने का अहम हिस्सा होती है। इसका रंग गुलाबी और स्वाद थोड़ा सा नमकीन होता है।

थुपका: थुपका लद्दाखी खाने में विशेष रूप से खाया जाता है। सर्दी से बचने के लिए नूडल्स, सब्जियों और मीट के टुकड़ों को साथ में पकाकर बनाया गया थुपका यहां की लोकल ब्रेड जिसे खमीर कहते हैं के साथ परोसा जाता है। थुपका आपको लद्दाख में छोटी से छोटी दुकान में भी मिल जायगा।

मोकथुक: मोकथुक यहां की एक और डिश है जिसे लद्दाखी लोग बड़े चाव से खाते हैं। इस डिश में मोमोज को सूप के साथ पकाया जाता है और गर्म-गर्म परोसा जाता है।

छांग: छांग यहाँ की देसी शराब है, जिसे लद्दाखी लोग खुद तैयार करते हैं। इससे हल्का-हल्का नशा होता है। जब ये लोग खेतों में काम करने जाते हैं तो छांग भर कर ले जाते हैं जिसे पीने से इनका शरीर गर्म रहता है और लद्दाख के सख्त मौसम से दो-दो हाथ करने की ऊर्जा भी मिलती है।

खुबानी का जैम (एप्रिकॉट जैम): खुबानी और इससे बनने वाली डिशेज़ लद्दाख में बहुत मशहूर है। जैम से लेकर अचार, फेसपैक और स्क्रब तक में एप्रिकॉट (खुबानी) का इस्तेमाल होता है। खुबानी से बनने वाली खाने की चीज़ें न सिर्फ टेस्टी होती हैं बल्कि ये काफी हेल्दी भी होती हैं।

टीग्मो: कई तरह की सब्जियों और खमीर वाले ब्रेड से तैयार होने वाले टीग्मो का स्वाद भी यहां आकर लेना न भूलें। वेजिटेरियन और नॉन वेजिटेरियन दोनों ही इस डिश को एन्जॉय कर सकते हैं। खट्टी-मीठी इस डिश को स्नैक्स के अलावा खाने में भी सर्व किया जाता है।

याक चीज़: याक चीज़ सुनकर यक करने की जरूरत नहीं बल्कि ये काफी टेस्टी होता है। आम चीज़ से अलग याक चीज़ याक के दूध से तैयार किया जाता है और टेस्ट के लिए इसमें खट्टे फलों का रस भी मिलाया जाता है। यहां की लोकल बेकरी से आप इसे खरीद सकते हैं।