Wed. Jan 16th, 2019

लोकसभा की टिकट की जुगत में भाजपा के कुछ पूर्व विधायक

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने कहा, फैसला संसदीय बोर्ड करेगा

सांध्य ज्योति संवाददाता

जयपुर, 11 जनवरी। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में हार का मुंह देख चुकी भाजपा के कई पूर्व विधायक लोकसभा चुनाव का टिकट पाने की दौड़ में जुट गए हैं। इन नेताओं में शामिल कुछ खुल कर तो कुछ दबी जुबान में भाजपा प्रदेश नेतृत्व के समक्ष अपनी मंशा जता रहे हैं। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन लाल सैनी ने भी साफ कर दिया है कि लोकसभा के लिए टिकट पार्टी का संसदीय बोर्ड तय करेगा। साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि प्रजातंत्र में जीते हुए सांसद को ही दुबारा टिकट मिले, यह जरूरी नहीं है। विधानसभा चुनाव हार चुके जो नेता लोकसभा चुनाव में टिकट मांग रहे हैं उनमेंं बायतु से पूर्व विधायक और वर्तमान में भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कैलाश चौधरी का नाम भी शामिल है। कैलाश चौधरी बाड़मेर लोकसभा सीट से टिकट की दावेदारी कर रहे हैं। इसी तरह पूर्व विधायक बाबू सिंह राठौड़ जोधपुर सीट से टिकट लेने की चाहत रखते हैं। पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा झुंझुनू या सीकर में से किसी सीट पर टिकट की चाहत रख रहे हैं तो वहीं पूर्व विधायक कन्हैया लाल मीणा दौसा लोकसभा सीट से चुनाव लडऩा चाहते हैं। पूर्व विधायक दीया कुमारी जयपुर और सवाई माधोपुर में से किसी एक सीट पर चुनाव लडऩा चाहती है वहीं पूर्व मंत्री श्रीचंद कृपलानी चित्तौडग़ढ़ लोकसभा सीट से टिकट के प्रमुख दावेदार माने जा रहे हैं। कृपलानी पूर्व में सांसद भी रह चुके हैं। इस सूची में अरुण चतुर्वदी का नाम भी जयपुर शहर लोकसभा सीट से प्रमुखता से चल रहा है लेकिन वो खुद इससे इनकार कर रहे हैं। हालांकि टिकट मिलने पर चुनाव लडऩे के सवाल से भी इंकार नहीं कर रहे।