Tue. Jun 18th, 2019

प्रोस्टेट कैंसर से रहना है दूर, तो जीवनशैली में ये बदलाव करें पुरुष

पुरुषों के मूत्राशय के नीचे एक महत्वपूर्ण अंग पाया जाता है, जिसे प्रोस्टेट कहते हैं। ये अंग प्रजनन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। प्रोस्टेट अखरोट के आकार की एक ग्रंथि होती है, जो पुरुषों में वीर्य से संबंधित तरल पदार्थ का उत्पादन करती है। इसी तरल पदार्थ के सहारे व्यक्ति के शुक्राणु बाहर आते हैं। प्रोस्टेट कैंसर एक खतरनाक रोग है, जो व्यक्ति के इस महत्वपूर्ण अंग को प्रभावित करता है।
प्रोस्टेट कैंसर पुरुषों में पाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण कैंसर है। आमतौर पर प्रोस्टेट कैंसर बहुत धीरे-धीरे बढ़ता है इसलिए शुरुआत में इसके लक्षणों का पता लगाना मुश्किल होता है। गलत खान-पान और खराब जीवनशैली के कारण पिछले एक दशक में प्रोस्टेट कैंसर के रोगियों की संख्या काफी बढ़ी है। प्रोस्टेट कैंसर के कारण हर साल लाखों लोग अपनी जान गंवाते हैं। अगर आप अपनी जीवनशैली में थोड़े बदलाव करें, तो प्रोस्टेट कैंसर से बचाव संभव है। आइए आपको बताते हैं क्या हैं वो बदलाव।

हर 2 साल में पीएसए जांच कराएं
क्कस््र टेस्ट खून की एक जांच है, जो प्रमुख रूप से प्रोस्टेट कैंसर का पता लगाने के लिए की जाती है। इस टेस्ट में व्यक्ति के खून में प्रोस्टेट स्पेसिफिट एंटीजेन (पीएसए) की जांच की जाती है। ये एक तरह का प्रोटीन है, जो प्रोस्टेट की ग्रंथियों द्वारा उत्पादित होता है। प्रोस्टेट कैंसर से बचाव के लिए आपको समय-समय पर पीएसए टेस्ट करवाते रहना चाहिए। अगर प्रोस्टेट कैंसर का पता शुरुआती अवस्था में चल जाता है, तो इसका इलाज आसान हो जाता है।

शराब और सिगरेट छोड़ दें
प्रोस्टेट कैंसर का खतरा उन लोगों को सबसे ज्यादा होता है, जिनमें सिगरेट और शराब की लत होती है। सिगरेट और शराब की लत के कारण प्रोस्टेट ग्रंथि को नुकसान पहुंचता है। यही कारण है कि इनकी लत वाले लोगों का सेक्शुअल जीवन भी बहुत अच्छा नहीं होता है। अगर आप प्रोस्टेट कैंसर से बचे रहना चाहते हैं, तो आपको आज से ही सिगरेट और शराब की लत छोड़ देनी चाहिए।

सही होना चाहिए खान-पान
कैंसर के बढऩे का एक प्रमुख कारण लोगों का खान-पान भी है। अगर आप कैंसर से बचाव चाहते हैं, तो स्वस्थ खान-पान की आदत अपनाएं। मांसाहारी आहारों का बहुत अधिक सेवन करने वालों को प्रोस्टेट कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। इसके अलावा तेल और घी में बने फूड्स खाने से भी कैंसर का खतरा बढ़ता है।

प्रदूषण वाले इलाकों से रहें दूर
कैंसर का एक प्रमुख कारण प्रदूषण है। हवा में मौजूद प्रदूषण के कारण सिर्फ फेफड़ों का कैंसर नहीं, बल्कि अन्य तरह के कैंसर भी हो सकते हैं। कैंसर से बचाव के लिए जरूरी है कि आप ऐसे इलाकों से दूर रहें जहां प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा हो। दिल्ली जैसे महानगरों में प्रदूषण का स्तर खतरे से बहुत ज्यादा है। इसके अलावा अगर आपके आसपास कोई कारखाना या कूड़ाघर है, तो ये भी कैंसर को बढ़ावा दे सकते हैं।

नियमित एक्सरसाइज जरूरी
नियमित एक्सरसाइज करके आप हर तरह के कैंसर से बच सकते हैं। दरअसल एक्सरसाइज करने से आपके शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बहुत बढ़ जाती है। इसके कारण वायरस और बैक्टीरिया आपके शरीर पर आक्रमण नहीं कर पाते हैं और आप तमाम तरह के रोगों से बचे रहते हैं, जिनमें से एक कैंसर भी है। नियमित एक्सरसाइज करने वाले लोगों में हार्ट अटैक का खतरा भी 50′ तक कम हो जाता है।