Sat. Jan 25th, 2020

निर्भया गैंगरेप: तिहाड़ में 4 मुजरिमों को एकसाथ फांसी

मेरठ! बाप-दादा की विरासत में किसी को जमीन-जायदाद मिलती है। किसी को अच्छे संस्कार। यूपी के मेरठ शहर में इन सबसे परे एक इंसान को विरासत में ‘जल्लादी’ मिली है। चर्चा है कि अब इसी परिवार का पवन जल्लाद (चौथी पीढ़ी) निर्भया गैंगरेप के चारों दोषियों को तिहाड़ जेल में फांसी देगा। चारों दोषियों को 22 जनवरी की सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा और इसकी तैयारी भी चल रही है।
देश में इस परिवार को लोग जल्लादों के परिवार के रूप में जानते-पहचानते हैं। 1950-60 के दशक में इस परिवार की पहली पीढ़ी के मुखिया लक्ष्मण देश में मुंसिफों (अदालतों) द्वारा सजायाफ्ता करार दिए गए मुजरिमों को फांसी पर चढ़ाने का काम करते थे। अब उन्हीं लक्ष्मण जल्लाद का परपोता यानी, लक्ष्मण के मरहूम जल्लाद बेटे कालू राम जल्लाद के बेटे का बेटा (चौथी पीढ़ी) पवन जल्लाद अपनी जिंदगी की पहली फांसी देने की तैयारी में जुटा है।

पांच फांसियों में दादा की मदद की
पवन जल्लाद ने इससे पहले करीब पांच फांसियों के दौरान दादा कालू राम जल्लाद का सहयोग किया था। उन पांच फांसी लगवाने के दौरान पवन ने फांसी लगाने की बारीकियां दादा कालू राम जल्लाद से सीखी थीं। अब निर्भया के चारों हत्यारों को फांसी पर लटकाना पवन जल्लाद का अपनी जिंदगी में अपने बलबूते सजायाफ्ता को फांसी पर लटकाने का पहला अनुभव होगा।

‘फांसी लगाने का हुनर दादा से सीखा’
तो क्या एकसाथ चार-चार मुजिरमों को फांसी पर टांग कर पवन अपने पुरखों (परदादा, दादा और पिता) का रेकॉर्ड तोड़ने वाले हैं? उन्होंने कहा, ‘आप ऐसा कह सकते हैं। सच्चाई भी यही है कि अभी तक हिंदुस्तान के करीब 100 साल के इतिहास में कभी भी चार मुजरिमों को एक साथ किसी जल्लाद ने फंदे पर नहीं लटकाया है। यह मौका मेरे हाथ पहली बार लग रहा है। जहां तक परदादा, दादा और पिता का रेकॉर्ड तोड़ने की बात है, तो मैं भला यह कैसे कह सकता हूं? वे तीनों तो फांसी के मामले में मेरे गुरु रहे हैं। उनसे ही तो मैंने फांसी लगाने का हुनर सीखा था, आज उसी को अमल में लाने का मौका मिला है।’

“मैं बिलकुल तैयार बैठा हूं। यह मेरे पुरखों का ही आशीर्वाद है कि उन्होंने अपनी पूरी उम्र में एक बार में एक या फिर ज्यादा से ज्यादा दो मुजरिमों को ही फांसी के फंदे पर टांगा था।”-पवन जल्लाद