Fri. Nov 15th, 2019

एयर पॉल्यूशन से आपको सुरक्षित रखते हैं ये घरेलू टिप्स

एयर पॉल्यूशन का बुरा असर शारीरिक के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है। पॉल्यूशन के कारण शरीर के कई अंगों और कामों को नुकसान होता है। कल से बच्चों के स्कूल भी खुल रहे हैं, ऐसे में मां की सबसे बड़ी चिंता अपने बच्चे को सुरक्षित रखने की है ताकि उसके बच्चे को पॉल्यूशन के कारण किसी तरह का कोई नुकसान न हो। इसके अलावा वह अपने परिवार को भी एयर पॉल्यूशन से पूरी तरह से सुरक्षित रखना चाहती है। इसलिए आज हम आपके लिए कुछ ऐसे टिप्स लेकर आए है जिनकी हेल्प से आप एयर पॉल्यूशन से खुद को सुरक्षित रख सकती हैं। और इस बारे में हमें नई दिल्ली के इन्द्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल्स के सीनियर पल्मोनोलिज्स्ट डॉक्टर राजेश चावला ने एयर पॉल्यूशन के हानिकारक प्रभावों और इनसे बचने के लिए घरेलू टिप्स के बारे में बताया। लेकिन सबसे पहले यह जान लेते हैं कि एयर पॉल्यूशन हेल्थ को कैसे प्रभावित करता है?

एयर पॉल्यूशन का हेल्थ पर असर
एयर पॉल्यूशन सांस की बीमारियां जैसे सीओपीडी उग्र हो जाती है। एयर पॉल्यूशन के कारण ब्रोन्कियल अस्थमा भी बिगड़ जाता है। इसके अलावा इससे थकान, सिरदर्द और चिंता, आंखों, नाक, गले में जलन, नर्वस सिस्टम को नुकसान पहुंचना, कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर बुरा असर पड़ता है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार, हर साल 70 लाख लोगों की मृत्यु प्रदूषित हवा के कारण होती है। सर्दियों का मौसम फिर से आ रहा है, ऐसे में आने वाले दिनों में हवा में नमी कम होने और खेतों में भूसा जलाने के कारण, सर्दियों में पॉल्यूशन हाई लेवल पर पहुंच जाता है। पिछले 30 सालों में एयर पॉल्यूशन के कारण हेल्थ पर कई घातक प्रभाव पाए गए हैं। इनमें सांस की बीमारियां जैसे अस्थमा और फेफड़ों की समस्याएं, कार्डियोवेस्कुलर रोग, प्रेग्नेंसी पर बुरा असर जैसे समय से पहले डिलीवरी आदि देखने को मिलते है। ऐसे में कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर आप इससे आसानी से बच सकती हैं।

घर में सही हो वेंटीलेशन
कभी-कभी घर की खिड़कियां खोलें, ताकि घर में हवा का आवागमन ठीक बना रहे। छोटे-छोटे उपायों से घर में पॉल्यूशन को कंट्रोल में रख सकती हैं। इससे घर में ताजा हवा आती रहती है।

घर में एयर प्यूरीफाइंग

पौधे लगाएं
घर की भीतरी हवा को कंट्रोल में रखने के लिए नेचुरल पौधे जैसे एलोवेरा, आईवी, मनीप्लांट, सेनसेवियरा और स्पाइडर प्लांट लगाएं। ये हवा को साफ करते हैं। घर में केमिकल फ्रेशनर, क्लीनर, मोमबत्ती, धूम्रपान आदि का इस्तेमाल न करें।

मास्क पहनें
जब एयर पॉल्यूशन का लेवल गंभीर हो, उस समय मास्क का इस्तेमाल करें। मास्क ऐसा हो कि आपके चेहरे पर फिट हो जाए, साथ ही इसे पहनना आरामदायक हो, ताकि आप लंबे समय तक इसे पहने रख सकें। सुनिश्चित करें कि मास्क और त्वचा के बीच अंतर न हो ताकि प्रदूषित हवा सांस के साथ भीतर न जा सके।

खुले में एक्सरसाइज न करें
खुले में हैवी एक्सरसाइज जैसे साइकिलिंग और जॉगिंग करने से बचें। खासतौर पर सुबह और शाम के समय एयर पॉल्यूशन का लेवल बहुत ज्यादा होता है, उस समय बाहर न जाएं। इसके बजाए घर के अंदर ही एक्सरसाइज या जिम कर सकती हैं। बच्चों के लिए भी आउटडोर एक्टिविटी सीमित कर दें।

गुड़ का सेवन करें
गुड़ आपको एयर पॉल्यूशन के हानिकारक प्रभावों से बचाता है, यह प्राकृतिक क्लीजिंग एजेन्ट है, जो बॉडी से टॉक्सिन्स निकालने में हेल्प करता है।

खूब पानी पीएं
इससे बॉडी के वायुमार्ग साफ हो जाते हैं। रेगुलर चाय के बजाए हर्बल चाय, अदरक या तुलसी की चाय पीएं, यह बॉडी से टॉक्सिन्स निकालने में हेल्प करती है।

विटामिन सी से भरपूर डाइट लें
अपनी डाइट में विटामिन सी, मैग्नीशियम, ओमेगा फैटी एसिड का सेवन भरपूर मात्रा में करें। ये पोषक तत्व आपकी बॉडी की इम्?यूनिटी को बढ़ाते हैं जिससे आप छोटी-छोटी बीमारियों से बची रह सकती हैं और आपको प्रदूषण के घातक प्रभावों से सुरक्षित रखते हैं।

इसके अलावा व्यस्त स्थानों, भीड़भाड़ भरे इलाकों में जाने से बचें। अगर सांस लेने में तकलीफ हो, बहुत ज्यादा खांसी हो तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लें।