September 28, 2020

मलाइका ने बताया पानी पीने का सही तरीका

जानें 46 की उम्र कैसे दिखती हैं इतनी हॉट

फिटनेस क्विन हैं मलाइका अरोड़ा। उनकी स्किन का ग्लो, चेहरे का चार्म और फिगर के कट्स किसी भी युवा हिरोइन को चैलेंट देने के लिए काफी हैं। अक्सर प्रेस कॉन्फ्रेंस या दूसरे इवेंट्स के दौरान भी मलाइका से यह सवाल पूछा जाता है कि आखिर वे इतनी फिट कैसे हैं तो अपने फिटनेस रुटीन से जुड़ा एक सीक्रेट हाल ही मलाइका ने खुद शेयर किया है… आइए जानते हैं

क्यों नहीं पीना चाहिए खड़े होकर पानी
आमतौर पर युवा पानी पीते समय दो गलतियां करते हैं। एक- वे पानी खड़े होकर पीते हैं। दूसरी गलती यह है कि वे पानी को बहुत तेजी से गट-गट करके पीते हैं। इतनी तेजी से पानी पीने से उनका पेट तो पानी से भर जाता है लेकिन हमारी जीभ के टेस्ट बड्स और प्यास का अहसास करानेवाले टिश्यूज को तृप्ति नहीं मिल पाती है। इस कारण पानी से पेट भरने के बाद भी हमें प्यास लगती रहती है। खड़े होकर पानी पीने से सेहत को कई तरह के नुकसान होते हैं। इनमें अपच की समस्या और घुटनों में होनेवाला दर्द मुख्य रूप से शामिल हैं। शायद यह एक बड़ी वजह है कि हमारे युवा आजकल पेट से जुड़ी समस्याओं से अक्सर परेशान रहते हैं। और कम उम्र में ही वे घुटनों में दर्द के शिकार हो रहे हैं।

फिटनेस और हेल्थ पर मलाइका का जबाव

  • मलाइका ने अपने इंस्टा अकाउंट पर एक विडियो शेयर किया है, इसमें वे बता रही हैं कि कैसे फैंस उनसे फिटनेस को लेकर सवाल करते हैं या किस तरह की जिज्ञासा युवाओं में मन में फिटनेस को लेकर होती है।
  • मलाइका बताती हैं कि सिर्फ अच्छा खाने और सही मात्रा में न्यूट्रिशन लेने से ही हेल्दी नहीं रहा जा सकता। बल्कि हमें इटिंग और फीडिंग एटिकेट्स का पालन भी करना चाहिए।
  • हालांकि कम ही लोग यह बता पाते हैं कि आखिर इस तरह पानी पीने से शरीर को नुकसान क्या होता है मलाइका ने भी यह तो नहीं बताया लेकिन उन्होंने पानी पीने का तरीका जरूर बताया।

कैसे पीना चाहिए पानी
अपने इस शॉर्ट विडियो में मलाइका कहती हुई नजर आ रही हैं कि पानी को कभी भी खड़े होकर नहीं पीना है, इसलिए जब भी आपको प्यास लगे तो पहले बैठ जाएं और फिर पानी को गटगट करके पीने की जगह सिप-सिप करके पिएं। ऐसा करने से शरीर को पानी का पूरा पोषण मिलता है। साथ ही इस प्रक्रिया के द्वारा पिया गया पानी शरीर द्वारा अच्छी तरह अब्जॉर्ब कर लिया जाता है, इससे शरीर को पूरे दिन हाइड्रेट बने रहने में सहायता मिलती है।