Fri. Aug 7th, 2020

2 मिनट में ठीक हो जाएगा सिरदर्द

जानें बिना दवा दर्द ठीक करने की खास ट्रिक

सिरदर्द की समस्या का इलाज कई बार बहुत आसानी से मिल सकता है। इसके लिए बहुत ज्यादा दवाइयां खाने की जरूरत नहीं है। योगा की मदद से भी सिरदर्द ठीक किया जा सकता है। योगा के साथ एक समस्या ये भी है कि इसे करने के लिए समय चाहिए और सिरदर्द की दवाई खाने में सिर्फ कुछ ही सेकंड लगते हैं। इस समस्या के बारे में हमने त्रशशस्र2ड्ड4ह्य द्घद्बह्लठ्ठद्गह्यह्य की फाउंडर संकल्प शक्ति से बात की। उन्होंने हमें स्थपनी मर्म के बारे में बताया।

क्या है मर्म चिकित्सा
मर्म चिकित्सा में शरीर के खास प्रेशर प्वाइंट्स को दबाया जाता है। शरीर में लगभग 107 प्रेशर प्वाइंट्स होते हैं जो कई तरह की बीमारियों को ठीक करने में मददगार साबित हो सकते हैं। खास तौर पर सिरदर्द, कमर दर्द, पैर दर्द आदि के लिए मर्म चिकित्सा बहुत ही लाभकारी साबित हो सकती है। ये शरीर में एनर्जी बनाए रखती है और सबसे अच्छी बात ये है कि इसमें किसी तरह की दवाइयों की जरूरत नहीं पड़ती जिससे किसी भी तरह के साइड इफेक्ट की गुंजाइश खत्म हो जाती है। सिरदर्द की समस्या अगर किसी को हो रही है तो उसके लिए बहुत ही आसान सी तकनीक है। स्थपनी मर्म एक प्वाइंट है जिसे दबाने से सिरदर्द में आराम मिलता है। अगर इससे जुड़ी एक्सरसाइज रेग्युलर करेंगी तो माइग्रेन में भी आराम मिल सकता है। स्थपनी मर्म प्वाइंट को दबाने की एक खास तकनीक है। इसे अगर आप सही से फॉलो करेंगी तो ये 2 मिनट में ही अपना असर दिखाना शुरू कर देगा।

सिरदर्द खत्म करने के लिए कैसे दबाएं स्थपनी मर्म प्वाइंट
स्थपनी मर्म प्वाइंट दोनों आईब्रो के बीच में स्थित होता है। मर्म चिकित्सा में प्रेशर प्वाइंट को सही समय, सही तरीके से और सही प्रेशर के साथ दबाना होता है। इसलिए मीडियम प्रेशर से ही इसे दबाएं।
1. सबसे पहले अपने अंगूठे को दोनों आइब्रो के बीच में रखें और बाकी चार उंगलियों को पीछे की ओर सिर पर रखें, जैसा तस्वीर में दिखाया गया है।
2. अब अंगूठे की टिप को 25-30 बार प्रेस करना है। इसे 1 सेकंड के लिए प्रेस कर फिर प्रेशर हटा लें और फिर दोबारा प्रेस करें।
3. हर 6 घंटे में इस प्रोसेस को दोहराएं। इसे करने में सिर्फ 1 या 2 मिनट ही लगेंगे।

क्या न करें
1. स्थपनी मर्म को मीडियम प्रेशर से ही दबाएं। बहुत जोर से या बहुत धीरे दबाने पर ये असर नहीं दिखाएगा।
2. गर्दन बिलकुल न झुकाएं। अगर गर्दन झुकाई तो ये असर नहीं करेगा और गर्दन में दर्द भी हो सकता है।
3. अपने अंगूठे को माथे से हटाना नहीं है। बस प्रेशर बढ़ाना और घटाना है। अंगूठा अगर माथे से हटाएंगी तो असर कम होगा।