September 24, 2020

सेल फोन और लैपटॉप के उपयोग से कमजोर हो गई हैं आंखें तो रोज खाएं ये फूड्स

इस समय लॉकडाउन के कारण प्रफेशनल लोगों का मोबाइल और लैपटॉप पर अधिक समय व्यतीत हो रहा है। वहीं, होम मेकर्स और बच्चे टीवी पर अधिक समय बिता रहे हैं। इस स्थिति में जरूरी हो गया है कि अपनी आंखों का खास ध्यान रखा जाए। ताकि इन सभी गैजेट्स से निकलनेवाली हानिकारक किरणें आपकी आंखों को नुकसान ना पहुंचाएं।

क्यों सूख जाते हैं आंसू: गैजेट्स को उपयोग करते समय हम मानसिक रूप से इनमें इस कदर व्यस्त हो जाते हैं कि पलकें झपकना भी भूल जाते हैं। जब हम पलकें कम झपकते हैं तो हमारी आंखों की टियर ग्लैंड्स यानी आंसू बनानेवाली कोशिकाएं सूख जाती हैं। इससे आंखों में ड्राईनेस की समस्या होती है। और हमें हर समय लगता रहता है कि हमारी आंख में कुछ किरकिरा रहा है। जबकि ऐसा कुछ होता नहीं है।

रेटिना की नर्व्स सिकुडऩे लगती हैं: इसके साथ ही यदि हम पलकें कम झपकते हैं और गैजेट्स की स्क्रीन पर एकटक देखते हुए अधिक वक्त बिताते हैं तो हमारी आंखों के रेटिना की नर्व्स सिकुडऩे लगती हैं। इससे हमारी देखने की क्षमता कमजोर होने लगती है। इन सभी दिक्कतों से बचने के लिए जरूरी है कि हम अपने नियमित भोजन में उस खाद्य पदार्थों का उपयोग करें, जो विटमिन-ए से भरपूर होते हैं।

अंगूर पहुंचाएगा लाभ
अंगूर खाना हम सभी को पसंद होता है। काले या हरे जैसे भी अंगूर खाना भी आपको पसंद हो आप हर दिन खाइए और अपनी सेहत का पूरा ध्यान रखिए। क्योंकि अंगूर खाने से विटमिन-ए की प्राप्त तो होती ही है।

पपीता बढ़ाता है देखने की क्षमता
पपीते का उपयोग फल और सब्जी दोनों रूपों में किया जाता है। पपीते को चाहे जिस भी रूप में खाइए ये आपकी सेहत को पोषण देने का काम करेगा। एक छोटा पपीता हर दिन खाने से आपके शरीर में 30 प्रतिशत विटमिन-ए की पूर्ति हो जाएगी। साथ ही कुछ दिन तक लगातार ऐसा करने से ना केवल आपकी आंखों की रोशनी और चमक बढ़ेगी बल्कि आपकी त्वचा भी बहुत अधिक स्वस्थ और आकर्षक बन जाएगी।

विलायती खरबूजा और रॉकमैलन
आमतौर पर आपको बाजार में दो तरह के खरबूजे देखने को मिलते हैं। एक के ऊपर धारियां होती हैं और दूसरे का छिलका भूरे रंग का होता है और और धारीदार खरबूजे से थोड़ा मोटा भी होता है। इस खरबूजे को विलायती खरबूजा और रॉकमैलन भी कहते हैं।