Fri. Nov 15th, 2019

काम के बढ़ते दबाव के चलते परिवार को समय नहीं दे पा रहे 64′ भारतीय

चीन की टेक कंपनियों के ‘996’ वर्क कल्चर (सुबह 9 बजे से रात 9 बजे तक हफ्ते में 6 दिन काम) का असर भारतीय कंपनियों पर बढ़ रहा है। काम के दबाव के चलते हर 3 में से 1 वर्किंग प्रोफेशनल अपने बच्चों को क्वॉलिटी टाइम नहीं दे पा रहा है। यह बात वर्क प्रेशर से उनकी क्वॉलिटी लाइफ पर पडऩे वाले असर पर गोदरेज के हालिया सर्वे ‘मेक स्पेस फॉर लाइफ’ से सामने आई है। गोदरेज इंटीरियो के सर्वे के मुताबिक ज्यादातर भारतीय मानते हैं कि कामकाज और परिवार के साथ तालमेल बिठाने में उन्हें दिक्कत हो रही है।

चाइनीज 996?
चीन की बड़ी टेक्नोलॉजी कंपनियों और स्टार्टअप्स में लगभग एक दशक से हफ्ते के छह दिन और हर दिन सुबह नौ बजे से रात नौ बजे तक काम करने का चलन है। यंग टेक ऑन्त्रप्रेन्योर्स के लिए आदर्श माने जाने वाले ग्लोबल ई-कॉमर्स फर्म अलीबाबा के संस्थापक जैक मा ज्यादा वर्किंग आवर्स को ‘बड़ा वरदान’ मानते हैं। इसकी कॉम्पिटिटर जेडी.कॉम के कर्ताधर्ता रिचर्ड लियू कहते हैं कि दिन बर्बाद करने वाले मेरे भाई नहीं हो सकते।

भारत में स्थिति
गोदरेज इंटेरियो के अनिल माथुर के मुताबिक लोगों की यह सोच एकदम गलत साबित हो रही है कि टेक्नोलॉजी उनकी जिंदगी आसान बना सकती है। उनका कहना है कि उल्टे यह काम के बढ़ते दबाव के चलते लोगों को परिवार और बच्चों से दूर कर रही है। गोदरेज की स्टडी में शामिल 64′ लोगों का मानना है कि वे परिवार को समय नहीं दे पा रहे हैं जबकि 28′ को खुद से शिकायत है कि वे जीवनसाथी के साथ क्वॉलिटी टाइम नहीं गुजार पा रहे हैं।

शौक को वक्त न दे पाने का मलाल
गोदरेज के सर्वे में भाग लेने वाले 21.2′ प्रोफेशनल्स का कहना है कि वे दोस्तों को समय नहीं दे पाते हैं। 61′ को सबसे ज्यादा तकलीफ इस बात की है कि कामकाज की आपाधापी में उन्हें अपने शौक के लिए वक्त नहीं मिल रहा है। इतने ही लोगों का मानना है कि पारिवारिक जिम्मेदारियां भी शौक को जेहन में जड़ जमाने नहीं दे रही हैं।

भारतीयों पर ये है असर
– 64′ लोग परिवार को समय नहीं दे पा रहे
– 28′ को शिकायत कि जीवनसाथी को समय नहीं दे पा रहे
– 21.2′ प्रोफेशनल्स दोस्तों को समय नहीं दे पाते
– 61′ पेशेवर अपने शौक पूरे नहीं कर पा रहे हैं