Wed. Jan 16th, 2019

वर्कशॉप में बताए पक्षी बचाने के गुर

सांध्य ज्योति संवाददाता
जयपुर, 11 जनवरी। पर्यावरण और जीव-जगत को बचाने के लिए गुरुवार को राजस्थान जन मंच पक्षी चिकित्सालय, मालवीय नगर में पक्षी सरंक्षण हेतु एक कार्यशाला एवं ट्रैनिंग कैम्प का अयोजन किया गया, जिसमें जीव-जन्तुओं को संरक्षित रखने, घायल पक्षियों की प्राथमिक चिकित्सा करने के तरीके बताए गए। पक्षी चिकित्सालय के संस्थापक कमल लोचन ने बताया कि पक्षियों को बचाने एवं एक निश्चित अनुपात में संरक्षित रखने पर ही पर्यावरण का सही मायने में संरक्षण हो सकेगा। उन्होंने कहा कि पशु-पक्षी पर्यावरण चक्र का महत्वपूर्ण अंग है। थोड़ी सी सूझ-बूझ और सामान्य उपचार से हम 60 प्रतिशत से अधिक पक्षियों को अकाल मृत्यु से बचा सकते है। इस मौके पर 200 विद्यार्थियों, जीव कल्याण कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। सभी को पक्षियों को सावधानीपूर्वक पकडऩे एवं प्राथमिक चिकित्सा के बारें में जानकारियां प्रदान की गई, ताकि स्वंय के स्तर पर वह पर्यावरण और पक्षी बचाने के महत्वपूर्ण कार्य को अजांम दे सके। इस अवसर पर ए.के.ऋषि, अशोक जैन, काजोल जैन, निधि तातेर, तितिक्षा जैन, मंयक शर्मा, बीएल विजय, दर्शन शर्मा आदि वक्ताओं ने विचार व्यक्त किए।