November 30, 2020

पेट के साथ हिप्स की चर्बी से भी परेशान हैं तो ये 3 योगासन रोजाना करें

Stocksy

कोरोना वायरस इन्फेक्शन से बचने के लिए ज्यादातर लोग अपना ज्यादा से ज्यादा समय घर के अंदर ही बिता रहे हैं। इसके चलते उनका लाइफस्टाइल काफी बदल गया है और इस बदलाव के कारण कई महिलाएं मोटापे का सामना कर रही हैं। खासतौर पर लंबे समय तक बैठे रहने के कारण पेट और हिप्स की चर्बी से ज्यादातर महिलाएं परेशान हैं। लेकिन अब आपको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपके लिए कुछ योगासन लेकर आए हैं जिसे आप घर में आसानी से करके इससे छुटकारा पा सकती हैं। अगर आपकी भी पेट और हिप्स की चर्बी बहुत ज्यादा बढ़ गई है तो यह योगासन आप भी रोजाना करें।
पेट के साथ हिप्स की चर्बी कम करने के लिए हमें कौन से योगासन करने चाहिए इस बारे में जानने के लिए हमने योग गुरू नेहा जी से बात की। योग गुरु नेहा, द योग गुरु तथा वुमेन हेल्थ रिसर्च फाउंडेशन (ट्रस्ट) की संस्थापक हैं और प्रेग्नेंसी के लिए योग पर काफी किताबें लिख चुकी हैं। उन्होंने हमें चर्बी कम करने वाले कुछ योगासन के बारे में बताया। साथ ही यह भी बताया कि यह कैसे काम करते हैं।
नेहा का कहना है कि ”पेट की चर्बी के साथ हिप्स को कम करने के लिए हमें द्वि चक्रीय आसन, उत्तानपादासन और नौकासन करना चाहिए। ये 3 योगासन हमें इसलिए करने चाहिए क्योंकि यह हिप्स और पेट के एरिया को टारगेट करते हैं। इसके अलावा इसे करने से इन अंगों में ब्लड की सप्लाई काफी ज्यादा बढ़ जाती है। साथ ही गर्मी लेवल बढऩे से एडिपोज (हमारे शरीर में ब्राउन एडिपोज टिशू होता है जिसे ब्राउन फैट के नाम से जाना जाता है। यह फैट शरीर में गर्मी को बढ़ाता है जिससे फैट आसानी से बर्न होता है। इसके अलावा ब्राउन फैट कैलोरी और फैट को तेजी से एनर्जी में बदलता है जो बॉडी मास इंडेक्स को कम करता है।) टिशूज आसानी से बर्न हो जाते हैं जिससे चर्बी आसानी से जलने लगती है।”

द्वि चक्रीय आसन
मोटापा कम करने के लिए यह सबसे अच्छे आसनों में से एक है। नियमित रूप से 5 से 10 मिनट तक इसे रोजाना करने से पेट और हिप्स का फैट कम होता है। इसके अलावा यह आपकी थाइज के फैट को भी कम करता है और पेट से जुड़ी समस्याओं के लिए रामबाण है।

द्वि चक्रीय आसन करने का तरीका

द्वि चक्रीय आसन करने से पहले आपको एक चक्रीय आसन करना होगा।

इसे करने के लिए कमर के बल सीधे लेट जाएं।

दोनों पैर आपस में मिले हुए और हथेलियां हिप्स के नीचे ज़मीन पर होनी चाहिए।

धीरे से बाएं पैर को ऊपर की ओर उठाएं व पैर को अधिक से अधिक गोलाकार चक्र में पहले क्लॉक वाइज और फिर एंटी क्लॉक वाइज घुमाएं।

लगातार 8-10 बार इसे करें। फिर ऐसा ही दूसरे पैर से भी करें।

अब द्वि चक्रीय आसन करने के लिए आपको दोनों पैर को सांस भरते हुए गोल-गोल जितना हो सके उतना बड़ा जीरो बनाना है।

5 बार क्लॉक वाइज़ और 5 बार एंटी क्लॉक वाइज करें।

नौकासन
रोजाना बस कुछ मिनटों तक नौकासन करने से पेट के आस-पास और हिप्स की अनावश्यक चर्बी घटाने में मदद मिलती है। साथ ही नौकासन आपके पेट और हिप्स को फ्लैक्सीबल बनाता है, रीढ़ को मजबूत करता है और डाइजेशन में सुधार करता है। इसके अलावा यह मसल्स को मजबूती प्रदान करता है।

नौकासन करने का तरीका

  • इसे करने के लिए पीठ के बल लेट जाएं।
  • फिर पैरों और दोनों हाथों को एक-साथ मिलाकर ऊपर उठाएं।
  • हाथों को सीधा रखें और उंगलियों को सीधा रखते हुए पैरों को छूने की कोशिश करें।
  • सांस लें और शरीर के ऊपरी हिस्से और पैरों को जमीन से 45 डिग्री ऊपर उठाएं।
  • पेट के निचले हिस्से में स्ट्रेच महसूस करें।
  • शरीर का भार अपने हिप्स पर डालें और ध्यान रखें कि झुकाव पैरों के अंगूठे और हाथों की तरफ हो।
  • इस पोजीशन में थोड़ी देर रुकें और फिर पैरों और बॉडी के ऊपरी हिस्से को नीचे करके आराम करें।
  • इस आसन को 3-4 बार दोहराएं या तब तक करें, जब तक सहज महसूस हो रहा हो।

उत्तानपादासन
इसे रेगुलर करने से पेट और हिप्स के साथ थाइज का फैट भी कम होता है। यह पीठ को मजबूत करता है और पेट की बीमारियों जैसे कब्ज और एसिडिटी को दूर करने में भी कारगर है।

उत्तानपादासन करने का तरीका

  • इसे करने के लिए पीठ के बल मैट पर लेट जाएं।
  • दोनों हथेलियों को हिप्स के साथ जमीन को छूने दें।
  • पैरों को जमीन से 45-90 डिग्री पर उठाएं और धीरे- धीरे सांस लें।
  • लोअर एब्स में प्रेशर महसूस करने के लिए इस योगासन को 15-20 सेकंड तक होल्ड करें।
  • सांसों को छोड़ते समय अपने पैरों को जमीन की ओर वापस लाएं।